लखनऊ: गोमती नगर के मनीषा मंदिर के बाल संरक्षण गृह में छापा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के देवरिया जिला में पिछले दिनों नारी संरक्षण गृह में घिनौना कृत्य सामने आने के बाद शासन की सख्ती का असर लगातार दिख रहा है। कई जिलों में शिकायत के बाद जिलाधिकारी महिला आश्रय गृहों और बल संरक्षण ग्रहों पर छापेमारी कर रहे हैं। इसी क्रम में राजधानी लखनऊ के गोमती नगर स्थित मनीषा मंदिर के बाल संरक्षण गृह में जिला बाल संरक्षण इकाई की टीम ने शनिवार को छापा मारा। जिला बाल संरक्षण इकाई की टीम को जांच में तमाम खामियां मिली हैं। बताया जा रहा है कि कोर्ट के आदेश के बाद 14 लड़कियों को बाल संरक्षण की टीम वहां से ले जाने के लिए पहुंची थी। छापेमारी के दौरान गोमतीनगर पुलिस की टीम भी जिला बाल संरक्षण इकाई की टीम के साथ मौजूद थी।

संरक्षण गृह में सुरक्षा के इंतजाम नहीं
जानकारी के मुताबिक, पूरा मामला गोमतीनगर के विरामखण्ड-2 स्थित मनीषा मंदिर बाल संरक्षण गृह का है। यहां से कोर्ट के आदेश के बाद 14 मासूम बच्चियों को प्राग नारायण रोड स्थित बाल गृह ले जाया गया है। बाल संरक्षण अधिकारी हस्मा जुबैर ने बताया कि पिछले दिनों हमारी टीम ने मनीषा आश्रम में चल रहे बाल गृह का निरीक्षण किया था तो बहुत खामियां निकलकर सामने आयी थी। हस्मा जुबैर ने बताया कि टीम ने जब बच्चियों से पूछताछ की तो पता चला यहां उन्हें खाने पीने की सामग्री में काफी अनियमितता बरती जा रही है। उन्होंने बताया कि संरक्षण गृह में सुरक्षा के इंतजाम नहीं हैं। बच्चियों ने सुरक्षा को लेकर खतरा बताया था।

मासूम बेटियों को पीटती थी संचालिका
उन्होंने बताया कि संचालिका बच्चों से अलग रहती हैं। बच्चे जब इस संरक्षण गृह से बाहर आये तो वो काफी खुश थे। बच्चों से जब बाल संरक्षण गृह की संचालिका ने पूछा कि ‘आप लोग यहाँ से जाना चाहते हो या हमारे साथ रहना चाहते हो तो बच्चियों से वहां रहने से साफ मना कर दिया।’ इससे साफ जाहिर है कि बाल संरक्षण गृह में मासूमों के साथ गड़बड़ी की जा रही थी। बेटियों ने बताया कि संचालिका उनसे झाड़ू पोछा सहित सभी काम करवाती थी। मना करने पर सभी को डंडे से पीटती थी। बता दें कि मनीषा बाल संरक्षण गृह (बाल गृह बालिका) में 10 से 18 वर्ष की बालिकाओं को देखरेख एवं संरक्षण, शिक्षा आदि समस्त मौलिक सुविधा प्रदान करनें हेतु की व्यवस्था करना सुनिश्चित है। परंतु यहाँ की सुरक्षा राम भरोसे है।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper