पति की हत्या की चश्मदीद गवाह पत्नी का 24 घंटे के अन्दर फंदे पर लटका मिला शव


महिला पति की हत्या की चश्मदीद गवाह थी, उसने वीडियो में आरोपी का नाम बताया था, लोगों ने आरोपी द्वारा हत्या किये जाने की आशंका जताई है।

बाराबंकी। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे बाराबंकी में पुलिस की संवेदनहीनता के चलते एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। इस घटना के बाद मृतक की पत्नी ने बयान देते हुए आरोपी का नाम उजागर किया था। महिला ने बताया कि उसने अपने पति की हत्या होते देखी है। हत्या की इस सनसनीखेज वारदात के बाद 24 घंटे के भीतर पत्नी का रहस्यमय हालत में फंदे से शव लटका मिलने से सनसनी फैल गई। महिला के पैर जमीन से छू रहे थे। ग्रामीणों के मुताबिक महिला की हत्या करके शव को फंदे से लटका दिया गया। फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले की पड़ताल कर रही है।

चीख चीख कर महिला बता रही थी आरोपी का नाम
जानकारी के अनुसार, घटना मसौली इलाके के पूरे जवाहर पुर गांव की है। यहां पर बीते 20 सितम्बर की रात को हुकुम रावत नाम के युवक की हत्या कर दी गयी थी । मृतक हुकुम की पत्नी पिंकी चीख चीख कर विनय नाम के युवक पर पति की हत्या करने का आरोप लगाती रही। लेकिन बाराबंकी के संवेदनहीन पुलिस अधिकारियों ने उसकी एक न सुनी और विनय पर कार्यवाही करने की वजाय बदले में पिंकी पर ही अपने पति की हत्या में शामिल होने का आरोप लगाते रहे।

जिसका नतीजा ये हुआ कि अगले दिन 21 सितम्बर की सुबह पिंकी की भी लाश अपने घर के छप्पर में उसकी ही साड़ी से फांसी के फंदे पर लटकी हुई पायी गयी। जिस तरह पिंकी के पैर जमीन से छूते मिले है, उसे देख कर यही लग रहा है, कि किसी ने उसे मारने के बाद घटना को आत्महत्या का नाम देने की कोशिश में उसके शव को छप्पर से लटका दिया है। चौबीस घण्टो के भीतर पति पत्नी की मौत के बाद उनके 4 मासूम बच्चो के सर से मां- बाप का साया उठ गया। अगर समय रहते पुलिस ने पिंकी के चरित्र पर उंगली उठाने की वजाय उसके आरोपो को गंभीरता से लेते हुए एक्शन लिया होता तो शायद पिता को खो चुके मासूमों के सर पर ममता का आँचल बरकरार रहता। फिलहाल पिंकी की मौत के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। मगर इस कार्रवाई में इतनी बड़ी लापरवाही क्यों बरती गई यह एक बड़ा सवाल है।

=>