कुख्यात विपुल हत्याकांड में मुखिया रूपक शर्मा सहित तीन नामजद

 मृतक की पत्नी  ,दर्ज करायी है एफआईआर ,रूपक शर्मा पर सीधे गोली मारने का आरोप

>> घटना के दिन रूपक शर्मा ,एक पुलिस अधिकारी के साथ था बैठा ,सीसी टीवी में है फुटेज की बात

>> विपुल कुमार ने मुखिया रूपक शर्मा की हत्या के लिए दिया था सुपारी

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । खगौल में, दिनदहाड़े नौबतपुर के कुख्यात विपुल सिंह के हत्या से पर्दा उठ गया हैं । मृतक की पत्नी ने बारा पंचायत के मुखिया रूपक शर्मा सहित तीन लोगों को नामजद किया हैं । पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हैं । आरोपी मुखिया रूपक शर्मा के बारे में बताया जाता है की घटना के वक्त वह एक पुलिस अधिकारी के साथ बैठा था और सीसी टीवी में फुटेज हैं ।
     नौबतपुर के मोतेपुर निवासी विपुल सिंह हाल ही दिन में करीब दो माह पहले जेल से छूटकर बाहर आया था। इसका मुख्य साथी विकास सिंह ,बेऊर जेल में बंद है। जिसे जमानत पर छोड़ाने के लिए विपुल सिंह चक्कर काट रहा था तो दूसरे गिरोह के अपराधियों से बचने के लिए हाल के दिनों में खगौल स्थित डीएवी के बगल में डेरा लिया था।  तीन दिन पूर्व विपुल सिंह को परिचित ने घर के बाहर बुलाया और जैसे ही विपुल दरवाजे से बाहर निकला की घात लगाएं अपराधियों ने सीने में ताबड़तोड़ तीन गोलियां मारकर फरार हो गये । हाईटेक हॉस्पिटल में इलाज के दौरान विपुल की मौत हो गयी ।
मृतक की पत्नी मुस्कान कुमारी ने खगौल थाने में कांड संख्या 275 /18 ,धारा -302 ,34 एवं 27 आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज करायी हैं । एफआईआर में बारा पंचायत के मुखिया रूपक शर्मा ,दिनेश कुमार दोनों ,ग्राम-बारा एवं बेकेटेश कुमार उर्फ छुटकल ,ग्राम तरारी को नामजद अभियुक्त बनाई हैं । बारा पंचायत के मुखिया पर गोली मारने का आरोप हैं ।

सीसी टीवी कैमरे के निगरानी में था रूपक

विपुल हत्याकांड में जिस मुखिया -रूपक शर्मा को आरोपी ,अभियुक्त बनाया गया है उससे विपुल का पुरानी दुश्मनी रहीं थीं । रूपक के दो व्यक्ति की हत्या विपुल के इशारे पर दो वर्ष पूर्व हुआ था। विपुल हत्याकांड में रूपक शर्मा को नामजद अभियुक्त बनाया गया है और सीधा गोली मारने का आरोप हैं । मुखिया रूपक शर्मा के एक जानकार ने बताया की जिस वक्त घटना की बात कहीं जा रहीं है उस समय रूपक शर्मा पुलिस के एक अधिकारी के साथ बैठा था और सीसी टीवी कैमरे में फुटेज है। पुलिस इसकी जांच कर सकती हैं । फंसाने के नियत से नाम दिया गया हैं ।

रूपक शर्मा की हत्या की दी गयी थी सुपारी

मारा गया विपुल और जेल में बंद विकास सिंह और  मुखिया रूपक शर्मा के बीच वर्चस्व की लड़ाई चल रहीं हैं । इसका खुलासा भोजपुर जिले के कुख्यात अभिषेक सिंह के गिरफ्तारी के समय हुआ था। नौबतपुर के तत्कालीन थानाध्यक्ष रामाकांत तिवारी ने जब अभिषेक को गिरफ्तार किया था तो पूछताछ में अभिषेक ने बताया था की वह बारा पंचायत के मुखिया रूपक शर्मा की हत्या करने आया था, साथ में विकास भी था जो भाग गया ।
    सुत्रों की मानें तो विपुस से जेल से छूटने के बाद रूपक शर्मा को टारगेट कर रखा था। रूपक शर्मा की हत्या के लिए विपुल ने नौबतपुर का फरार चल रहा एक अपराधी को सुपारी दिया था। इस बात की जानकारी पुलिस को भी लग गयी थीं । पुलिस सुपारी किलर को गिरफ्तार करने के लिए जुटी थीं । उसने नौबतपुर में सुपारी लेकर कई की हत्या किया हैं ।
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper