शाहाबाद में राम बारात की धूम देख चिंघाड़े घोड़े,चप्पे-चप्पे पर पुलिस सहित पीएसी का पहरा

शाहाबाद।हरदोई।11अक्टूबर। ऐतिहासिक श्री रामलीला मेला पठकाना से समस्त मंगल सगुन के साथ निकली राम बारात में चप्पे-चप्पे पर पुलिस सहित पीएसी का व्यवहारिक पहरा रहा।नगर के मोहल्ला पठकाना रामलीला मैदान से निकली रामबारात परंपरागत रूप से नगरपालिका परिषद एवँ सरकारी अस्पताल के सामने प्रथमदृष्टया सजाई-सँवारी एवँ व्यवस्थित की गई और फिर ध्वनि विस्तारक यन्त्रों से गोस्वामी तुलसीदास जी के निम्नांकित दोहे के साथ रामलीला मेला समिति के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ0 मुरारी लाल गुप्त ने श्रीराम सहित सभी बारातियों की आरती उतारकर माल्यार्पण एवँ पुष्पवर्षा की तदुपरांत राम लक्ष्मण भरत सत्रुहन ब्रह्मा विष्णु महेश भवानी गरुड़ कुबेर गणेश ऋषि मुनि मनीषियों सहित अतिसुन्दर बारात चली उस समय यह दोहा बजता रहा कि मंगलमय कल्यानमय अभिमत फल दातार। जनु सब सांचे होन हित भए सगुन एक बार।। इसका तात्पर्य है कि राम बारात प्रस्थान से पूर्व सारे मंगल सगुन होने लगे मंगलमय कल्यानमय एवं मनोवांछित फल देने वाले शकुन मानों सच्चे होने के लिए एक ही साथ हो गए इस दोहे के तदनन्तर रामचरितमानस की कुछ चौपाइयां भी इस तरह वाद्य यंत्रों पर बजने लगीं- मंगल शगुन सुगम सब ताके। सगुन ब्रह्म सुंदर सुत जाके।। राम सरिस बरू दुल्हिन सीता। समधी दशरथ जनक पुनीता।। सुनि अस ब्याह शगुन सब नाचे। अब कीन्हें बिरंचि असि सांचे। एहि विधि कीन्ह बरात पयाना। हय गए गए गाजहिं हने निशाना।इस प्रकार बारात प्रस्थान होते ही बैंड बाजों पर बारातियों समेत दर्शकगण थिरकने लगे। आश्चर्य यह कि रामबारात में पहली बार ठोल, मृदङ्ग, नगाड़ा,तबला, सारंगी, बैंड बाजा आदि तरह तरह के न केवल बाजे बजते नजर आए बल्कि बग्घी के घोड़े वास्तव में एक बार जोर से हिनहिनाए जो दर्शकों को अचम्भित कर देने के लिए काफी था। बारात में नर्तकियों के मोहिनी नृत्य पर युवाओं की जहाँ बाँछें खिली रहीं वहीं बड़े बड़े बरिष्ठ नागरिकों की भी टकटकी बँधी रही भले समाज के सामने उनकी सिट्टी-पिट्टी गुम रही। सम्पूर्ण राम बारात में इस रामलीला के 81 वें उत्सव पर सबका मन मोह लेने बाले दृश्य दृष्टव्य हुए। मनमोहक झाँकियाँ बड़ी बुद्धिमत्ता एवँ कुशलता से सजाई गईं। ऐसा प्रतीत हुआ जैसे वास्तव में सूर्यवंशी श्री राम की बारात जनकपुरी जा रही हो वहुत ही सुमधुर बातावरण परिलक्षित हुआ। स्थानीय कोतवाल दीनानाथ मिश्र के पैने नेतृत्व में पर्याप्त पुलिस बल को देखते हुए बारातियों सहित विशेष रूप से दर्शक देवियां वहुत ही आल्हादित दिखाई दीं। किसी भी सीधे भले दर्शकगण के चेहरे पर किंचित चिन्ता के भाव कहीं नहीं दिखे जबकि अल्हड़ एवँ असामाजिक तत्व कुछ चिंतित दिखाई दिए। बारात में मोहिनी नृत्य से दर्शकों का मन मोह रहीं चारों नर्तकियों में भी निश्चिंतता के भाव परिलक्षित हुए। पुलिस ने भले कहीं पर भी किसी दर्शकगण से दुर्व्यवहार नहीं किया किन्तु चप्पे – चप्पे पर पैनी नजरें दौड़ाती पुलिस का भय तो स्वाभाविक ही अल्हड़ युवकों में बना रहा वैसे भी रामलीला मेला समिति के असरदार मीडियाप्रभारी ओमदेव दीक्षित, महामंत्री मधुप मिश्रा, मंत्री ऋषी कुमार मिश्र एवँ पँ आशीष मोहन तिवारी, कोषाध्यक्ष मनोविनोद अवस्थी, निरीक्षक शैलेन्द्र मिश्र, बरिष्ठ उपाध्यक्ष गोपाल त्रिपाठी, धर्मवीर यादव, मुकेश अवस्थी,सत्यवीर शुक्ल एवँ उपाध्यक्ष सुदेश चन्द्र मिश्रा , बसन्त गुप्ता,सर्वेश मिश्रा, डॉ0 पुनीत मिश्रा ,दीपक मिश्रा,सतीश चंद्र गुप्ता के अतिरिक्त विशेष सहयोगी गण राधेश्याम त्रिपाठी, दिनेश प्रसाद मिश्र,सैय्यद रईस अली,अशरफ़ अली,संतोष तिवारी,गुलफाम अली,उमैर खाँ, पंकज मिश्र श्यामू ,अखिलेश गुप्ता,आलोक पाठक,राजीव नयन दीक्षित, श्याम अवस्थी,दिलीप मिश्र, कपिल शुक्ल,ओमकुमार द्विवेदी आदि लगातार अपनी जिम्मेदारी निभाते रहे जबकि इस अवसर पर शाहाबाद के अतिरिक्त पुलिस बल में  मझिला थानाध्यक्ष अशोक कुमार यादव समेत पचदेवरा व पाली एवँ बेहटागोकुल पुलिस भी ड्यूटीरत रही।
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper