कटियारी में पुलिस की कमाई का जरिया बनी कच्ची शराब 

कच्ची शराब के हब के रूप में विकसित हो रहे हरपालपुर व अरवल थाने के दर्जनों गांव

हरपालपुर।हरदोई।12अक्टूबर।कटियारी क्षेत्र में कच्ची शराब की भट्टियां खुलेआम धधक रही हैं। जिन पर पुलिस प्रशासन व आबकारी विभाग अंकुश लगाने में नाकाम साबित होते दिख रहे हैं। क्योंकि कच्ची शराब माफिया पुलिस से खुला संरक्षण पा रहे हैं।
थाना क्षेत्र के कई ऐसे गांव हैं। जिनमें कच्ची शराब की भट्टिया खुलेआम धधक रही हैं।क्योंकि पुलिस प्रशासन उन पर हर माह मोटी रकम लेने के कारण उन पर अंकुश नही लग पा रहा है। क्योंकि अगर कच्ची शराब माफियाओं पर कार्यवाही करेंगे तो उनकी मोटी कमाई बंद हो जाएगी इसी कारण वह कार्यवाही करना मुनासिब नहीं समझते हैं कटियारी क्षेत्र में धीरे धीरे कच्ची शराब कुटीर उद्योगं का रूप ले रहा है। वहीं जबकि यह शराब बहुत ही घातक और जहरीली बताई जाती है।पुलिस प्रशासन व आबकारी विभाग कुम्भकर्णीय नींद सो रहा है।इन्हें इस बात की जानकारी होते हुए भी इन पर अपना अंकुश नहीं लगा पा रहे हैं। कटियारी क्षेत्र के कई ऐसे गांव हैं जिनमें कच्ची शराब की धड़ल्ले से बिक्री की जा रही है। जैसे कि बांसी अन्ना बैठापुर अरवल धर्मपुर खैरूद्दीनपुर मल्लिकापुर बूंदापुर बारी सरेसर लमकन बड़ागांव अर्जुनपुर आदि गांवों में कच्ची शराब धड़ल्ले से बिक्री की जा रही है।किसी भी समय जाओ दिन हो या रात बेखौफ होकर कच्ची शराब माफिया धड़ल्ले बिक्री कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक पुलिस तो मोटी कमाई के चक्कर में कच्ची शराब माफियाओं को खुला संरक्षण दे रही है।इसी के चलते इन पर अपना अंकुश लगाना मुनासिब नहीं समझती है। बताते चलें की कटियारी क्षेत्र में एक नहीं दो दो थाने होने के बावजूद भी इन पर अपना अंकुश नहीं लगा पा रही है।
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper