समाजसेवी राजवर्धन ने मृत व घायल गोवंशों के अंतिम संस्कार की व्यवस्था हेतु प्रशासन से की मांग

ग्राम प्रधानों व पशु चिकित्सकों को भी सहयोग दिए जाने का करें निर्देश
हरदोई।10अगस्त। जनहित की सच्ची सेवा और उसमें मूक प्राणियों की सेवा करने से बढ़कर दूसरा कोई पुण्य का कार्य हो ही नहीं सकता। ऐसी आत्म संतुष्टि का अपने दिलो-दिमाग में जेहन पाले समाजसेवी राजवर्धन सिंह “राजू”ने गौ सेवा के संरक्षण हेतु प्रशासन से भी सहयोग की आकांक्षा की है।इस संबंध में अपर जिलाधिकारी विमल कुमार अग्रवाल को एक ज्ञापन सौंपा है।सौंपें गए ज्ञापन में उन्होंने कहा है कि सुरभि गो सेवा संस्थान के नाम से शहर व आसपास की मृत गोवंशों का अंतिम संस्कार और घायल गोवंशों की चिकित्सा अपने ही संसाधनों से पूर्ण करते चले आ रहे हैं, किंतु आजकल शहर की मुख्य सड़कों व सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में गोवंश अधिक मृत अवस्था में पाए जा रहे हैं। उनका समुचित रुप से क्रिया कर्म ना हो पाने के कारण सड़ांध से बीमारियों के फैलने की आशंका है। उन्होंने यह भी बताया कि सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में उन के माध्यम से ऐसी व्यवस्था कर पाना दुष्कर होता जा रहा है। अतः जनहित में गोवंशों की सुरक्षा एवं संवर्धन हेतु मृत युवक घायल गोवंशों का क्रिया कर्म व उपचार कराना आवश्यक है जिससे बीमारियां ना फैल सकें। प्रशासन के माध्यम से यह आशा की जाती है कि जिलाधिकारी महोदय जिले के सभी ग्राम प्रधानों को यह निर्देश जारी करें कि वे गो वंशो के मृत्यु या घायल हो जाने पर उसके अंतिम संस्कार की व्यवस्था करें। यही नहीं, पशु चिकित्सा अधिकारियों को इसकी सूचना देकर गोवंशों का इलाज किए जाने के निर्देश जारी करें ,जिससे गोवंशों का संरक्षण और संवर्धन किया जा सके -मालूम हो कि समाजसेवी राजवर्धन सिंह राजू 103 लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार अपने संसाधनों से करा चुके हैं यही नहीं, हरिद्वार में उन पुण्य आत्माओं की शांति हेतु यज्ञ कर्म भी करवा चुके हैं। वह सुरभि गौ सेवा संस्थान के संरक्षक भी हैं उनके नेतृत्व में शहर के आसपास जहां भी घायल या व्रत मृत गो वंश मिलते हैं उनका उपचार व अंतिम क्रिया कर्म भी अपने संसाधनों से करवाते हैं ।प्रशासन को चाहिए कि सुदूर क्षेत्रों में सड़क के मुख्य मार्गों के नीचे गोवंशों के मृत अवस्था में पाए जाने की बढ़ोतरी दिनों पर दिन होती जा रही है ऐसी अवस्था में उन गो वंशो का अंतिम संस्कार नहीं किया गया तो सड़ांध से बीमारियों के फैलने का खतरा बढ़ जाएगा ।अतः जिलाधिकारी को चाहिए कि ग्राम समाज के माध्यम से इस उद्देश्य को पूरा किया जा सकता है।
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper