कुपोषित बच्चों की सेवा का संकल्प लेते हुये इनकी देखभाल करें: डा.नमिता

रानी लक्ष्मीबाई विंग ने वर्ष भर के लिए गोद लिए दो अति कुपोषित बच्चे
शाहजहाँपुर। देश में कुपोषण आज भी एक विकराल समस्या है प्रतिवर्ष पांच लाख से ज्यादा बच्चे कुपोषण का शिकार होकर काल के गाल में समा जाते हैं। इसी को मद्देनजर रखते हुए रानी लक्ष्मीबाई महिला विंग ने शुक्रवार को जिला अस्पताल में दो अति कुपोषित बच्चे वर्ष भर के लिए गोद लिए साथ ही वार्ड में मौजूद कुपोषण के शिकार बच्चों को दूध के बिस्किट,फल व कपड़े इत्यादि प्रदान किए। इस अवसर पर विंग की संस्थापक डा.नमिता सिंह ने कहा कि शरीर के लिए आवश्यक सन्तुलित आहार लम्बे समय तक नहीं मिलना ही कुपोषण है। कुपोषण के कारण बच्चों और महिलाओं की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिससे वे आसानी से कई तरह की बीमारियों के शिकार बन जाते हैं। अतः कुपोषण की जानकारियाँ होना अत्यन्त जरूरी है। यदि हम लोग कुपोषित बच्चों की सेवा का संकल्प लेते हुये इनकी देखभाल करें तो काफी हद तक इससे होने वाली मौत से बच्चों को बचा सकते हैं। जिलाध्यक्ष डॉ.बीना सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल के पोषण पुनर्वास केंद्र में बच्चे एडमिट होते हैं डॉक्टर की देखरेख में उनका इलाज होता है इन्हीं बच्चों में से दो बच्चों को आज संस्था की ओर से गोद लिया गया है हर महीने संस्था की ओर से इन बच्चों के इलाज व खानपान का सारा खर्चा लक्ष्मीबाई विंग उठायेगी । सचिव वर्षा अवस्थी ने कहा कि यदि हम लोग मिलकर यह ठान लें तो कुपोषण से बच्चों की मौत नहीं होगी। कोषाध्यक्ष नीरा गुप्ता ने इस नेक कार्य में सीमा गुप्ता व जुगनू शर्मा के विशेष योगदान के लिये आभार व्यक्त किया। इस दौरान डा.एस.के.सिंह,डा.अमित सिंह,शिखा राठौर,वीनू सिंह,रचना सिंह,रम्मन गुप्ता,अर्चना गुप्ता,पिंकी कपूर,विम्मी सैनी,सुमन पाल,सृष्टि पाण्डेय आदि मौजूद रहे।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper