खेती – बारी

सितम्बर से नवम्बर तक, लहसुन की आर्गनिक खेती

Published at :17th November, 2018, 3:27 PMजलवायु लहसुन को ठंडी जलवायु कि आवश्यकता होती है वैसे लहसुन के लिए गर्म और सर्दी दोनों ही कुछ कम रहें तो उत्तम रहता है अधिक गर्म और लम्बे दिन इसके कंद निर्माण के लिए उत्तम नहीं रहते है छोटे दिन इसके कंद निर्माण के लिए अच्छे होते है इसकी सफल खेती के लिए ...

Read More »

रबी की प्रमुख फसलों में शत-प्रतिशत बीजशोधन हेतु कृषक भाइयों को सुझाव

Published at :15th November, 2018, 7:57 PMलखनऊ: प्रदेश में फसलों को प्रति वर्ष कुल क्षति का लगभग 26 प्रतिशत क्षति रोगों द्वारा होती है। रोगों से होने वाली क्षति कभी-कभी महामारी का रूप भी ले लेती है और इनके प्रकोप से शत-प्रतिशत तक फसल नष्ट होने की सम्भावना बनी रहती हैं। अतः बुवाई से पूर्व सभी फसलों में शत-प्रतिशत बीजशोधन ...

Read More »

जैविक खेती : समय की मांग

Published at :10th November, 2018, 3:53 PMआधुनिक समय में बढ़ती हुयी जनसंख्या के खाद्यान्न पूर्ति हेतु किसान रासायनिकों जैसे-खाद, खरपतवारनाशी, रोगनाशी तथा कीटानाशकों को प्रयोग कर रहे है। सम्भवत: इनके प्रयोग से किसान प्रथम वर्ष अधिक उत्पादन तो प्राप्त कर लेते है, परन्तु धीरे-धीरे इनके प्रयोग से मृदा की उर्वरा शक्ति क्षीण होने लगती है और फसलों की उत्पादन क्षमता ...

Read More »

नवम्बर माह का फसलोत्पादन

Published at :10th November, 2018, 4:16 PMभविष्य में कृषि को पारिस्थितिकी, जलवायुपरक, आर्थिक, सामाजिक, समता और न्याय तथा ऊर्जा और रोजगारपरक चुनौतियां विश्व स्तर पर झेलनी होंगी। इसके लिए आवश्यकता होगी नवोन्मेष की, प्रथम श्रेणी की तकनीकों के विकास की और फिर उन्हें प्रसारित करके गुणवत्तापूर्ण उत्पादों में बदलने की जो विश्व-स्पर्ध का मुकाबला कर पाएं और भरपूर मुनाफा कमाकर ...

Read More »

अधिक उपज देने वाली 86032 किस्म, गन्ने की खेती किस माह में क्या करें

Published at :3rd November, 2018, 1:59 PMगन्ना लगाने की पारंपरिक विधि में रोपाई हेतु 2-3 आंख वाले टुकडों का उपयोग किया जाता है। एस.एस.आई. विधि में स्वस्थ गन्ने से सावधानी पूर्वक एक-एक कलिकाएं निकालकर पौधशाला (कोको पिथ से भरी ट्रे) में लगाया जाता है । मुख्य खेत में 25-35 दिन की पौध रोपी जाती है । पौधशाला में एक माह ...

Read More »

लाभप्रद है तिल की खेती

Published at :27th October, 2018, 2:56 PMतिल एक पुष्पिय पौधा है। इसके कई जंगली रिश्तेदार अफ्रीका में होते हैं और भारत में भी इसकी खेती और इसके बीज का उपयोग हजारों वर्षों से होता आया है। यह व्यापक रूप से दुनिया भर के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पैदा किया जाता है। तिल के बीज से खाद्य तेल निकाला जाता है। तिल ...

Read More »

कैसे करें आलू की उन्नत वैज्ञानिक खेती

Published at :13th October, 2018, 1:47 PMभारत की सरकारी नीतियां कहीं और विकसित होती है, जहां की भौतिक और सामाजिक-आर्थिक स्थितियां भारत की स्थितियो से काफी भिन्न होती है एसे में इन समाधानों को अपनाने से हमारी कृषि के लिए किए जाने वाले नवीन आविष्कार प्रभावित होते हैं, ये समाधान लोगों और यहाँ की भौतिक और सामाजिक-आर्थिक स्थितियों केलिए प्रासंगिक ...

Read More »

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तेज हवा और बारिश से फसलें चौपट

Published at :11th October, 2018, 11:27 PMसहारनपुर। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों सहित सहारनपुर जिले में गुरुवार की सुबह हवा और गरज के साथ हुई बरसात ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है। खेतों में तैयार खड़ी गन्ने और धान की फसले तहस-नहस हो चुकी है। किसानों का कहना है कि महंगा कर्ज उठाकर जिन फसलों को ...

Read More »

मोदी सरकार से ज्यादा मनमोहन सरकार ने बढ़ाया था न्यूनतम समर्थन मूल्य

Published at :8th October, 2018, 8:34 AMमुंबईः नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से जुलाई में खरीफ फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में की गई वृद्धि 2008-09 और 2012-13 में पूर्ववर्ती सप्रंग सरकार द्वारा की गई वृद्धि से ‘काफी कम’ रही। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने यह बात कही। सरकार ने जुलाई में गर्मी यानी खरिफ फसल के लिए एमएसपी ...

Read More »

कैसे बचाएँ सिंचाई जल!

Published at :8th October, 2018, 5:57 AM*खेत में पर्याप्त मात्रा में जीवांश खाद का उपयोग करें। *गर्मी में खेत की गहरी जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करने के बाद खेत को ढेलेदार अवस्था में बरसात होने तक पड़े रहने दें। *खेत को समतल करें, जिससे सिंचाई जल का वितरण समान रूप से हो सके। *फसल की जरूरत के अनुसार ...

Read More »
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper

Responsive WordPress Theme Freetheme wordpress magazine responsive freetheme wordpress news responsive freeWORDPRESS PLUGIN PREMIUM FREEDownload theme free