Main

Today's Paper

Today's Paper

मैन्युफैक्चरिंग क्षमता बढ़ने पर देश में रोजगार के सृजन में उतनी ही अधिक वृद्धि होती है : मोदी

मैन्युफैक्चरिंग क्षमता बढ़ने पर देश में रोजगार के सृजन में उतनी ही अधिक वृद्धि होती है : मोदी

नई दिल्ली । जहां देशों ने विनिर्माण क्षमता को बढ़ाकर, देश के विकास को गति दी। उन्होंने कहा कि मैन्युफैक्चरिंग क्षमता बढ़ने पर देश में रोजगार के सृजन में उतनी ही अधिक वृद्धि होती है।  उन्होंने कहा कि सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए हैं। पीएम मोदी ने पीएलआई को लेकर आयोजित एक वेबिनार में कहा कि मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए गति और स्केल को बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ”हमें उत्पादन की लागत, गुणवत्ता और दक्षता को वैश्विक मानकों के अनुरूप लाने के लिए एकसाथ मिलकर काम करने की जरूरत है।

प्रोडक्शन-लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम का लक्ष्य घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देना और एक्सपोर्ट्स को प्रोत्साहित करना है। उन्होंने कहा कि ऑटो, फार्मा जैसे 13 सेक्टर्स में सरकार पीएलआई स्कीम लेकर आई है

हमारी नीति और रणनीति, हर तरह से स्पष्ट है। हमारी सोच है- मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस और और हमारी अपेक्षा है जीरो इफेक्ट, जीरो डिफेक्ट।

मोदी ने कहा कि ये जिस सेक्टर के लिए है, उसको तो लाभ हो ही रहा है, इससे उस सेक्टर से जुड़े पूरे इकोसिस्टम को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि Auto और फार्मा में से और दवाओं के रॉ मटीरियल से जुड़ी विदेशी निर्भरता बहुत कम होगी।

Share this story