Thursday, October 1, 2020 at 6:20 AM

प्यार कहे या पागल पन,शव को जीवित करने के लिए छह माह तक करते रहे तांत्रिक क्रिया

नई दुनिया। छत्तीसगढ़ के आदिवासी क्षेत्रों में अंधविश्वास खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। इस बार ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें मृत महिला का शव छह माह से घर में रखकर उसे जीवित करने के लिए पति व उसका बेटा तांत्रिक क्रिया कराते रहे। इस दौरान शव गलकर कंकाल में बदल गया। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया है पुलिस के अनुसार बिश्रामपुर थाना क्षेत्र के ग्राम रामनगर के डबरीपारा निवासी आदिवासी समाज की कलेश्वरी देवी पत्नी शोभनाथ गोंड (50) की मौत फरवरी माह में शिवरात्र के दिन हो गई थी। पति शोभनाथ व पुत्र अमेरिकन सिंह अंतिम क्रिया करने के बजाय उसे जिंदा कराने को तांत्रिक क्रिया कराने लगे। छह माह से अधिक समय तक आसपास के तांत्रिक रोज तंत्र क्रिया करते रहे।
इस बीच शुक्रवार को सोहागपुर निवासी कलेश्वरी का भाई विफल सिंह उसके रामनगर स्थित घर पहुंचा तो मामले का पर्दाफाश हुआ। उसने सूचना विश्रामपुर पुलिस को दे दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। तांत्रिकों की तलाश भी की जा रही है।

loading...
Loading...