अवैध शराब फैक्ट्री पकड़ी जाने पर आबकारी निरीक्षक समेत 08 निलंबित

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के रोहनिया थाना अंतर्गत बीरभानपुर में बंद निजी आईटीआई में अवैध शराब फैक्ट्री पकड़ी जाने के बाद शासन के निर्देश पर रोहनिया क्षेत्र के आबकारी इंस्पेक्टर और सात सिपाहियों को निलम्बित कर दिया गया है। प्रदेश सरकार के निर्देश पर आबकारी आयुक्त द्वारा की गई कार्रवाई से विभाग में हड़कंप की स्थिति है। वहीं एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने भी इसी मामले में रोहिनयां थाने के तीन सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया। जिससे पुलिस महकमे में भी हड़कंप है।
बता दे कि बीती दो अक्तूबर की रात शिवपुर पुलिस ने बीरभानपुर में अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़ की आधा दर्जन लोगो को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में तस्करों ने बताया था कि कई सालों से चल रही फैक्ट्री के लिए पुलिस व आबकारी विभाग को भी हर महीने रकम पहुंचाई जाती थी। इसका भंडाफोड़ होने के बाद शासन तक हड़कम्प मच गया।
शासन ने संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया, जिसके बाद आबकारी आयुक्त ने शनिवार शाम वाराणसी सर्किल-3 (रोहनियां, लोहता, मिर्जामुराद और कपसेठी ) के इंस्पेक्टर आलोक कुमार सिंह को निलम्बित कर दिया। साथ ही सर्किल में तैनात सिपाही सिपाही शैलेष कुमार त्रिपाठी, शशिभूषण, सुनील कुमार, पवन कुमार, प्रेम आनंद, कंचन पांडेय व सुनीता सिंह को भी निलंबित कर दिया गया है। इस कार्रवाई की पुष्टि जिला आबकारी अधिकारी करुणेंद्र सिंह ने की है।
उधर एसएसपी ने रोहनिया थानाध्यक्ष रहे इंस्पेक्टर श्रीप्रकाश गुप्ता को हटा कर मॉनीटरिंग सेल का प्रभारी बना दिया है। वहीं कांस्टेबल चालक एकलाख खां, कांस्टेबल प्रदीप सिंह व कांस्टेबल अमरनाथ सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है।

=>