Main Sliderउत्तर प्रदेश

राम मंदिर के लिये अयोध्या में अनशन पर बैठे महंत को पुलिस ने जबरन उठाया

अयोध्या। अयोध्या राम मंदिर निर्माण व प्रधानमंत्री को अयोध्या बुलाने की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे तपस्वी छावनी के उत्तराधिकारी महंत परमहंस दास को देर रात स्वास्थ्य खराब होने के नाम पर पुलिस ने अनशन स्थल से उठाकर एंबुलेंस में जबरन लाद लिया, और अज्ञात स्थान के लिए रवाना हो गए। इस दौरान अनशन स्थल पर बैठे लोगों ने उन्हें जबरन ले जाने का विरोध भी किया लेकिन किसी ने एक नहीं सुनी। उल्टा वहां मौजूद पुलिस अधिकारियों ने लोगों को डांट कर चुप करा दिया।

औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना अनशन स्थल से जैसे ही रवाना हुए , भारी संख्या में पुलिस बल वहां पहुंचने लगा। बड़ी संख्या में फोर्स को देख कर लोगों को अंदेशा हो गया था कि महंत परमहंस दास का अनशन जबरन तुड़वाने की तैयारी हो गई है। जब तक लोग कुछ समझ पाते उससे पहले पुलिस अधिकारियों की टीमें अनशन स्थल पर पहुंची और देखते- देखते चार जवान सादी वर्दी में आगे बढ़े और उन्होंने महंत को यह कहते हुए कि बाबा तबीयत खराब हो गई स्थल से उठा लिया एंबुलेंस में बैठा दिया । इस बीच अनशन स्थल पर अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष डॉक्टर प्रवीण भाई तोगड़िया के समर्थक उनके आने की प्रतीक्षा अनशन स्थल पर कर रहे हैं।

इससे पहले औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना महंत से मिलने पहुंचे। औद्योगिक मंत्री सांसद लल्लू सिंह, विधायक वेद प्रकाश गुप्त व रामचंद्र यादव एवं महापौर ऋषिकेश उपाध्याय के अलावा जिलाध्यक्ष अवधेश पाण्डेय के साथ मंदिर प्रांगण के बाहर बैठे। अनशन स्थल से उठकर महंत श्री दास भी उनके बगल बैठे। औद्योगिक मंत्री व महंत श्री दास के बीच वार्ता सभी के सामने हो रही थी लेकिन दोनों इतना धीमे बोल रहे थे कि सुनना कठिन रहा। औद्योगिक मंत्री उन्हें सुप्रीम कोर्ट की पेंचीदगियों को समझाते हुए अनशन तोड़ने के लिए हाथ जोड़कर मनाते रहे और मुख्यमंत्री से मिलवाने का आश्वासन भी दिया था। उन्होंने कहा था कि संतों का सम्मान करना हमारी परम्परा रही है। कोई जोर-जर्बदस्ती की बात नहीं है। औद्योगिक मंत्री की शालीनता ने अनशनकारी महंत को भी प्रभावित किया और वह मुख्यमंत्री से सशर्त मिलने को राजी हो गए लेकिन सोमवार को दोपहर12 बजे तक का समय मांग था।

अंतरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अध्यक्ष डा. प्रवीण तोगड़िया ने महंत परमहंस दास को देर रात पुलिस की ओर से जबरन अनशन स्थल से उठा ले जाने की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि आज समाजवादी पार्टी की पूर्व सरकार और तब के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की याद ताजा हो गई। डॉक्टर तोगड़िया ने कहा कि भाजपा शासित राज्य उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के राज में अयोध्या में एक संत के साथ आधी रात में जो कुछ भी किया गया वह हिंदू धर्मावलंबियों के लिए बेहद शर्मनाक है। डॉ. तोगड़िया ने बताया कि वह कुछ ही घंटों में अयोध्या पहुंच रहे हैं। यहां पहुंचने के बाद परमहंस के अनशन को पुलिस की ओर से जबरन तोड़वाये जाने के विरोध में बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

loading...
Loading...

Related Articles