लखनऊ

विवेक हत्याकांड का देर रात फिर हुआ क्राइम सीन रीक्रिएशन

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के बहुचर्चित विवेक हत्याकांड की जांच कर रही एसआईटी और पुलिस टीम ने शनिवार देर रात एक बजे के बाद आरोपी सिपाहियों के साथ घटनास्थल पर सीन रीक्रिएशन किया। इससे पहले हत्या के आरोपी बर्खास्त सिपाही प्रशांत चौधरी व संदीप कुमार को शाम में 48 घंटे की पुलिस कस्टडी रिमांड पर जेल से बाहर लाया गया। सिपाहियों के आने से क्राइम सीन के रीक्रिएशन के साथ ही विवेक हत्याकांड में कई अनसुलझे सवालों का जवाब सामने आ सकता है।

विवेक तिवारी हत्याकांड के विवेचक व महानगर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक विकास कुमार पांडेय शनिवार शाम करीब छह बजे आरोपी बर्खास्त सिपाहियों को जेल से पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर आए। दोनों बर्खास्त सिपाहियों को मेडिकल परीक्षण के लिए ले जाया गया। इसके बाद दोनों को महानगर कोतवाली लाकर घटनाक्रम से संबंधित सवाल-जवाब किए गए। पुलिस ने सिपाहियों को साथ लेकर क्राइम सीन के रीक्रिएशन की तैयारी पहले ही पूरी कर ली थी। देर शाम एसआईटी की टीम ने भी बर्खास्त सिपाहियों से पूछताछ की। इस जघन्य हत्याकांड के 15 दिन बाद यह पहली बार है जब विवेचक और एसआईटी के पास वारदात की एकमात्र प्रत्यक्षदर्शी और मुख्य आरोपी मौजूद थे।

पुलिस इन सवालों के जबाब तलाश रही है कि कार सड़क पर धीरे-धीरे चल रही थी या खड़ी थी? अगर कार खड़ी थी तो उसका एंगल क्या था? कार की हेडलाइट्स जल रही थीं और खिड़कियां खुली थी या नहीं? सिपाही कार की तरफ किस दिशा से आए थे? उन्होंने अपनी बाइक कार से कितनी दूरी पर खड़ी की, बाइक का मुंह किस तरफ था? सिपाहियों को कार की तरफ बढ़ते देख विवेक ने क्या किया? क्या सिपाहियों से विवेक का झगड़ा हुआ और वह कार से नीचे उतरे थे? विवेक की पूर्व सहकर्मी के बायें हाथ में चोटें कैसे आईं? कहीं सिपाहियों ने युवती को कार से नीचे खींचने का प्रयास तो नहीं किया? विवेक किस तरह कार लेकर भागे जो सिपाहियों की बाइक में टक्कर लग गई? टक्कर लगने के बाद बाइक किस स्थिति में सड़क पर गिरी? सिपाही ने कितनी दूरी और किस एंगल से गोली चलाई? उस वक्त कार किस एंगल में थी विवेक के भागने के बाद सिपाहियों ने क्या किया?

इससे पूर्व पुलिस विवेक की सहयोगी रही युवती के बयान के आधार पर ही अपनी पड़ताल कर रही थी। पूर्व सहकर्मी ने अपने बयानों में पुलिस को काफी उलझाया भी था। उसके बार-बार बयान बदलने से पुलिस किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पा रही थी। अब आरोपी सिपाहियों के सामने आने के बाद कई सवालों के जवाब साफ होने की उम्मीद है।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button