पटनाबिहारब्रेकिंग न्यूज़राष्ट्रीय

विपुल हत्याकांड – सर बचा लीजिए , सबको मार, मरवा देगा आरोपी मुखिया

 पीडि़त परिजनों ने पुलिस के आला अधिकारियों से लगाया गुहार ,पुलिस नहीं कर रहीं गिरफ्तार

>> मृतक की पत्नी और कुख्यात विकास का बाप अरूण सिंह हैं आई विटनेस

>> एसपी (सीटी ) ने बताया ,बचाव में नहीं आया हैं कोई आवेदन ,एएसपी ने कहां -पुलिस कर रहीं जांच ,जल्द कार्रवाई

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । नौबतपुर का क्रीमनल विपुल हत्याकांड के आरोपियों का गिरफ्तारी नहीं होने पर पीडि़त परिजनों ने पुलिस के आला अधिकारियों से बुधवार को  मिलकर कार्रवाई की गुहार लगाया है -सर बचा लीजिए ,आरोपी मुखिया ,सबको मार-मरवा देगा ।एसपी (सीटी ) रविन्द्र कुमार ने बताया की आरोपियों की ओर से बचाव में कोई आवेदन नहीं आया हैं ।  पुलिस जल्द कार्रवाई करेंगी ,जो दोषी होंगे उन्हें बक्सा नहीं जायेगा ।मृतक की पत्नी और अरूण सिंह ,अपने को आई विटनेस बताएं हैं ।
      अपराध की दुनिया में बेताज बादशाह बनने का शौक पाल रखा, नौबतपुर का विपुल ने अपने करोड़ों का सम्पत्ति बेचकर गैंग तो खड़ा कर लिया ,पर अपनी जान को सुरक्षित नहीं रख पाया । दूसरे की हत्या की साजिश रचने वाला अपराधी विपुल, स्वयं ही अपराधियों के गोलियों का शिकार हो गया एवं रोते -बिलखते परिजनों को छोड़ गया । अब परिजन भी खतरा की आशंका जता रहें हैं ।
     पीडि़त परिजन ,बिहार पुलिस के आला अधिकारियों से मिलकर गुहार लगाया हैं की बीते 15 दिन पहले ,दिनदहाड़े खगौल थाना क्षेत्र के लेखानगर में विपुल कुमार की हत्या गोली मारकर बारा पंचायत के मुखिया रूपक शर्मा ,दिनेश कुमार एवं बिंकटेश कुमार उर्फ छुटकल ने कर दिया हैं । कई साक्षी ने घटना को अंजाम देते हुये देखा है,  इसको लेकर खगौल थाना में कांड संख्या 275 /18 दर्ज किया हूं ,लेकिन पुलिस किसी को गिरफ्तार नहीं कर रहीं हैं । सर, आरोपी मुखिया और इनके आदमियों से बचा लीजिए ,नहीं तो हम सभी को मार, मरवा देगा ।पुलिस अधिकारियों ने आश्वस्त किया की पुलिस कार्रवाई करेंगी ।
     सीटी ,एसपी -रविन्द्र कुमार ने बताया की आरोपी पक्ष की ओर से बचाव में, या घटना में शामिल नहीं होने का कोई आवेदन नहीं आया हैं । दानापुर, एएसपी और खगौल थानाध्यक्ष, कार्रवाई में जुटे हैं ।घटना में शामिल किसी अपराधी को बक्सा नहीं जायेगा । वहीं दानापुर के एएसपी ने कहां की मामले की जांच की जा रहीं हैं ।

कईल और रवीश की हत्या के बाद शुरू हुई अदावत

    तरारी गांव के अरूण सिंह और बारा पंचायत के मुखिया रूपक शर्मा के बीच मधुर संबंध था। रूपक का सुबह -शाम वहीं गुजरात था। मुखिया बनाने में अरूण सिंह का बड़ा योगदान था ,बताने वाले यहाँ तक बताते हैं की अरूण सिंह अपना बेटा विकास कुमार से कहीं अधिक रूपक शर्मा को मानते थे। इसी बीच मोतेपुर के विपुल की दोस्ती विकास से हो गयी । विकास ,विपुल और जटहा ने मिलकर नौबतपुर क्षेत्र में कईल और रवीश की हत्या कर दिया । इसी के बाद रूपक शर्मा और विकास में छत्तीस का आकड़ा शुरू हो गया । दोनों ही एक-दूसरे के जान के प्यासा हैं । इसका खुलासा ,अभिषेक के गिरफ्तारी के समय पुलिस कर चुकी हैं । जमानत पर से छूटने के बाद विपुल, मुखिया रूपक शर्मा की हत्या की साजिश में फिर जुट गया था। नौबतपुर के एक शुटर पर विपुल ने 30 हजार रूपये भी ,रूपक शर्मा की हत्या के लिये खर्च किया था ,लेकिन इसी बीच विपुल का चैप्टर क्लौज्ड हो गया ।
loading...
Loading...

Related Articles