स्ट्रोक के लिए पॉल्यूशन है जिम्मेदार

नई दिल्ली। शहरीकरण बढ़ने के कारण महानगरों में पॉल्यूशन स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है और इसकी वजह से स्ट्रोक के मामले भी बढ़ रहे हैं। इस समस्या के समाधान में वैस्कुलर न्यूरोलोजी की भूमिका महत्वपूर्ण है। यह कहना है जाने-माने न्यूरोलोजिस्ट डॉ. पी.एन. रंजन का। डॉ. पी. एन. रंजन ने कहा, “शहरीकरण बढ़ने के साथ दिल्ली जैसे शहरों में प्रदूषण भी बढ़ रहा है, जिसके कारण स्ट्रोक के मामलों की संख्या बढ़ रही है। इस समस्या के समाधान के लिए वैस्कुलर न्यूरोलोजी महत्वपूर्ण है।”

न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. रंजन ने कहा, “सीएमई जैसे मंच बेहद महत्वपूर्ण हैं। हमें खुशी है कि न्यूरोसाइन्सेज इन्स्टीट्यूट द्वारा आयोजित स्ट्रोक सिम्पोसियम अब अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का कार्यक्रम बन चुका है। खासतौर पर भारत जैसे देशों में यह बहुत मायने रखता है जहां लागत और गुणवत्ता जैसे मुद्दों के बारे में जानकारी एक बड़ा बदलाव ला सकती है।”

शहरी क्षेत्रों में स्ट्रोक के लगातर बढ़ते मामलों को देखते हुए इस साल का सेमिनार विशेष रूप से महत्वपूर्ण था।

इस साल सेमिनार में वैस्कुलर न्यूरोलोजी की आधुनिक तकनीकों पर रोशनी डाली गई। कुछ डॉक्टरों ने हाल ही में अपने द्वारा किए गए शोध और विशेष मामलों पर अपने दस्तावेज भी प्रस्तुत किए। वैस्कुलर न्यूरोलोजी से जुड़ी मौजूदा अवधारणाओं पर ध्यान केन्द्रित किया गया।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper