तालिबान से बात पर विदेश मंत्रालय ने दी सफाई

नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने भारत के रुख पर सफाई देते हुए कहा कि भारत तालिबान के साथ किसी भी तरह की बातचीत को तैयार नहीं है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है कि भारत तालिबान से कोई बात नहीं करेगा। गुरुवार को भारत ने कहा था कि वह अफगानिस्तान पर रूस द्वारा आयोजित की जा रही बैठक में गैर-आधिकारिक स्तर पर भाग लेगा। इस बैठक में तालिबान के प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे।

इस बैठक पर प्रतिक्रिया देते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। उमर ने लिखा, “अगर मोदी सरकार को तालिबान के साथ ग़ैर आधिकारिक स्तर पर बातचीत मंज़ूर है तो जम्मू कश्मीर में मुख्य धारा से अलग संगठनों से इस तरह की बातचीत क्यों नहीं हो सकती है? जम्मू कश्मीर की छीनी हुई स्वायतत्ता और उसकी बहाली पर ग़ैर आधिकारिक बातचीत क्यों नहीं?”

दरअसल, अफगानिस्तान में शांति बहाली के लिए आज भारत पहली बार तालिबान के साथ मंच साझा करेगा। ये बातचीत रूस के मॉस्को में होने जा रही है। भारत इस बातचीत में गैर आधिकारिक स्तर पर शामिल होगा। भारत के अलावा पाकिस्तान, चीन, ईरान और अमेरिका भी बातचीत में शामिल हो सकते हैं।

बता दें, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि भारत की विदेश नीति में इस बात का ज़ोर है कि अफ्गानिस्तान के साथ उनके अच्छे संबध रहें। इस कोशिश में अफगान-नेतृत्व में, अफगान-स्वामित्व वाले और अफगान-नियंत्रित तथा अफगानिस्तान सरकार की भागीदारी होना जरूरी है।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper