सिविल अस्पताल के  इमरजेंसी ओपीडी में कुल  1400 मरीजों का  हुआ उपचार ,  8 साल के तन्मय की हालत गंभीर   

लखनऊ : दीपावली खुशियों  और  दीपो का त्योहार हैं, जिसमें पटाखे जलाना व आतिशबाजी तो एक आम बात है , हालांकि इसके साथ ही आतिशबाज़ीया करने की चकाचौध में हम अपने  बचाव में  सावधानिया बरतना  भूल जाते ,जोकि यह  हमारी अपनी जिम्मेदारी  है ! जिसमे हर साल की तरह इस साल भी  दीपावली पर पटाखे से होने वाले  ख़तरे के आशंका के संज्ञान  में लेते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सतकर्ता बढ़ा दी थी,इसमें  जिला अस्पताल बलरामपुर  चिकित्सालय,सिविल ,राममनोहर लोहिया चिकित्सालय ,केजीएमयू ,समेत  जिले के सभी सरकारी अस्पतालो  में पटाखे से झुलसने वाले मरीजो के उपचार पर विषेशता दि गई थी , इसके साथ ही अस्पतालो में 24 घंटे सेवा इमेरजेन्सी  अलर्ट रही !
 
सिविल अस्पताल में दीपावली पर आग से झुलसे  53 मरीज पहुंचे
डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल में दीपावली पर आग से जले 53 मरीज आए। इसके अलावा चोट चपेट से घायल 24 मरीज उपचार के लिए आए। इमरजेंसी ओपीडी में कुल मिलाकर 1400 मरीजों का उपचार किया गया।
अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ आशुतोष दुबे ने बताया कि दीपावली पर 7 तारीख की दोपहर से 8 तारीख सुबह 8:00 बजे तक 30 मरीज और उसके बाद 23 मरीज पटाखे से चले उपचार केलिए  आये। इनमें 8 साल के तन्मय की हालत गंभीर है। उसको उपचार के लिए बेड नंबर 23 में भर्ती कराया गया है। इसके अलावा मनीष खरे उम्र 38 साल के हाथ में पटाखे दागने से काफी गहरा जख्म हो गया। प्राथमिक उपचार के बाद  उनको केजीएमयू रेफर कर दिया गया। दीपावली के दिन से आज तक इमरजेंसी ओपीडी में 1400 मरीजों का उपचार किया गया है। डॉ दुबे के अनुसार पिछले साल की तुलना में इस बार पटाखे से जले मरीजों की संख्या में काफी कमी आई है। पिछले साल पटाखे से जले 90 से ज्यादा मरीज उपचार के लिए आए थे। स्पष्ट है कि लोग काफी जागरूक हुए हैं इसी का नतीजा है कि आग से जले केस इस वर्ष बहुत कम आए।
 
दूसरी तरफ केजीएमयू के ट्रामासेंटर में 
 
डॉ. संतोष कुमार ने बताया कि इस दिवाली में पटाखों से घायल 30  मरीज ट्रामा सेंटर पंहुचे, जिसमें से दो को भर्ती किया गया एवं शेष को प्राथमिक उपचार के उपरांत भेज दिया गया। भर्ती मरीजों में एक के आंख में और दूसरे के पेट में चोट है।
 बलरामपुर अस्पताल में   दो मरीजों की   हालत गंभीर
बलरामपुर चिकित्सालय के निदेशक डॉ राजीव लोचन ने बताया की, पिछली दीपावली से इस दीपावली में  मरीजो की संख्या में काफी  कमी हुई  है ! हलाकि इस
 साल लगभग पटाखे से जले  तीस मरीज आए थे ! जिनका उचित उपचार कर उन्हें घर भेज दिया गया है !  जिसमे से  मॉल निवासी ,विजय 25 और शहादतगंज  निवासी कशिश 8 बच्ची  गंभीर रूप से घायल है ,जोकि इनका उपचार चल रहा है !
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper