जमकर चले लाठी-डण्डे हुआ पथराव, पुलिस बनी रही मूकदर्शक

नगर निगम व हिन्दु संगठन आमने-सामने
झांसी। नवाबाद थाना क्षेत्र स्थित नई तहसील के पास बने वर्षो पुराने हनुमान मंदिर को अतिक्रमण के दायरे में आने बात कहते हुए नगर निगम की टीम उसे तोड़ने पहुंच गई। हिन्दु संगठन के लोगों ने इसका विरोध कर अपर नगर आयुक्त व टीम के साथ हाथा पाई कर दी। इस पर टीम मौके से भाग निकली। इसके बाद नगर निगम के समर्थन में भारी संख्या में सफाई कर्मी हाथों में लाठी-डण्डे लेकर उक्त मंदिर पर पहुंच गये। वहां हिन्दु संगठन व सफाई कर्मियों के बीच जमकर मारपीट हुई। जिसमें दोनों पक्षों के कई लोग घायल हो गये। जबकि मौके पर नगर सर्किल के कई थानों का फोर्स मौके पर मौजूद रहा। यदि समय रहते जिला व पुलिस प्रशासन सर्तकता बरतती तो यह घटना बबाल होने से रूक सकता था। समाचार लिखे जाने तक स्थिति गंम्भीर बनी रही।
नई तहसील सब्जी मण्डी के पीछे वर्षो पुराना हनुमान मंदिर बना हुआ है। जिसे नगर निगम प्रशासन अतिक्रमण में आने की बात कह रहा है। मंगलवार की सुबह अपर नगर आयुक्त अरूण कुमार गुप्ता के नेतृत्व में टीम अतिक्रमण हटाने मंदिर पर पहुंची और जेसीबी मशीन से अतिक्रमण हटाने लगी। मंदिर पर होती कार्रवाई देख लोगों में गुस्सा फूट गया और इसकी जानकारी मिलते ही विश्व हिन्दु परिषद के महामंत्री अंचल अड़जरिया, जिलाध्यक्ष पंकज गुप्ता सहित तमाम हिन्दु संगठन के लोग वहा पहुंच गये। और मंदिर तोड़ने का विरोध करने लगे। लेकिन नगर निगम की टीम अपनी कार्रवाई करती रही। वही मामले की सूचना मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल भी मौके पर पहुंच गया। इसी बीच हिन्दु संगठन के लोगों व अपर नगर आयुक्त सहित नगर निगम टीम के साथ हाथा पाई होने लगी। स्थिति बिगड़ते देख नगर निगम टीम किसी प्रकार वहां से भाग निकली। इसके बाद जब इसकी जानकारी नगर निगम के सफाई कर्मियों को हुई तो भारी संख्या में सफाई कर्मी नगर निगम अधिकारियों का समर्थन करते हुए अपने हाथों में लाठी-डण्डें लेकर उक्त मंदिर पर पहुंच गये। वही इसकी जानकारी होते ही पुलिस अधिकारियों सहित नवाबाद, प्रेमनगर, सीपरी बाजार, कोतवाली व सदर बाजार थानों की पुलिस भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गई। पुलिस की मौजूदगी में ही सफाई कर्मियों व हिन्दु संगठनों के बीच जमकर लाठी-डण्डें चलने लगे। साथ ही पथराव होने लगा। इस संघर्ष में विश्व हिन्दु संगठन के महामंत्री अंचल अड़जरिया, जिलाध्यक्ष पंकज गुप्ता समेत दोनों पक्षों के दर्जनों लोग घायल हो गये। वही पुलिस लगातार दोनों पक्षों को रोकने का प्रयास करती नजर आई। वही इसकी जानकारी मिलते ही भाजपा के नगर अध्यक्ष प्रदीप सरावगी समेत तमाम भाजपाई मौके पर पहुंच गये। बताया जा रहा कि यदि समय रहते जिला व पुलिस प्रशासन सतर्कता बरतती तो इतनी बड़ी घटना को रोकी जा सकती थी। वही पुलिस का कहना है कि तहरीर मिलते ही दोनों पक्षों के विरूद्व मामला दर्ज करने की कार्रवाई की जायेगी। वही समाचार लिखे जाने तक स्थिति गंम्भीर बनी हुई थी।
बॉक्स
पैदल लाठी-डण्डे लेकर निकले सफाई कर्मी, पुलिस क्यों बनी रही बेखबर ?
नगर निगम से विवाद स्थल की दूरी करीब 4 किलो मीटर की देरी पर है। जब नगर निगम में लाठी-डण्डों लेकर एकत्र हुए और जूलूस के रूप में पैदल-पैदल मंदिर के लिए निकले। तो फिर भी पुलिस क्यों बेखबर बनी रही ? यही नहीं नगर निगम में एकत्र होकर निकलते समय की वीडियो तभी से सोशल मीडिया पर बायरल हो रही थी। इसके बाबजूद भी पुलिस प्रशासन सर्तक नहीं हुई।

=>