भोजपुर

जिलाधिकारी के समर्थन में युवाओं के बाद वार्ड पार्षद समेत छात्र नेता भी उतरे सड़को पर

आरा(वसीम/अरुण ओझा)। गुरुवार की शाम “युथ ऑफ आरा” के बैनर तले आरा शहर में सिविल सर्जन आवास से लेकर सदर अस्पताल तक डॉक्टरों के खिलाफ़ में आक्रोश मार्च निकाला गया। जिसका नेतृत्व वार्ड 15 के वार्ड पार्षद सोनू कुमार एवं छात्र राजद के बिहार प्रदेश उपाध्यक्ष आलोक रंजन ने किया। आरा शहर के छात्र-युवा सदर अस्पताल पहुँच कर अस्पताल परिसर में घूम घूम कर डॉक्टरों के मनमानी रवैये को उजागर किया। आक्रोश मार्च के उपरांत सभा का आयोजन हुआ। जिसको संबोधित करते हुए छात्र नेता आलोक रंजन ने कहा कि सदर अस्पताल के डॉक्टरों का मनमानी लगातार बढ़ते जा रहा है। अक्सर नियम का उलंघन आरा शहर के सरकारी एवं निजी डॉक्टर कर रहे है साथ ही छात्र नेता ने कहा कि आरा शहर के छात्र-नवजवान भोजपुर जिलाधिकारी के साथ है। उन्होंने यह भी कहा कि जिलाधिकारी भोजपुर वैसे डॉक्टरों को चिन्हित करने का काम करे जो सरकारी डॉक्टर होते हुए भी अपना निजी क्लिनिक चला रहे हैं और सदर अस्पताल में सिर्फ मरीजों को बरगलाने का अड्डा बनाये हुए हैं। वहीं दूसरी ओर सभा को संबोधित करते हुए वार्ड पार्षद सोनू कुमार ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए कहा कि कहा कि डॉक्टरों की मनमानी से सब लोग वाकिफ़ हैं अगर 48 घण्टे के अंदर डॉक्टरों के हड़ताल को वापस नही लिया जाता है तो बाध्य होकर लोकतांत्रिक ढंग से पूरे आरा शहर का चक्का जाम कर दिया जाएगा। वहीं सभा को संबोधित करते हुए वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के वरीय छात्र नेता डॉ. नवीन शंकर पाठक ने कहा की जिलाधिकारी भोजपुर के द्वारा स्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से जिले के सभी सरकारी अस्पताल के चिकित्सकों का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हाजिरी लगाने का निर्देश आम जनहित में बेहद सराहनीय कदम था और हमेशा यह प्रणाली लागू है जिससे शोषित गरीब लोगों की सही तरीके से स्वास्थ्य का लाभ मिले, जिस पर चंद कुछ चिकित्सकों द्वारा अच्छी पहल पर विराम लगाने के लिए एक साजिश के तहत जिलाधिकारी के खिलाफ डॉक्टर संघ को खड़ा किया गया है और पूरे जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था को पूरी तरह से बाधित कर दिया गया है। मौके पर सभा को संबोधित करते हुए वरीय छात्र नेता भाई जितेंद्र पाण्डेय ने जनहित में डॉक्टरों से आह्वान किया कि जल्द से जल्द अपना हड़ताल वापस लें और काम पर लौटें ताकि स्वास्थ्य व्यवस्था सुचारू रूप से चले। ‘युथ ऑफ आरा’ के आक्रोश मार्च का समर्थन NSOSYF के राष्ट्रीय महासचिव अजय पासवान ने भी किया और कहा कि आरा के नवजवानों का यह आक्रोश वाज़िब है। आक्रोश मार्च में अनुराग पाण्डेय, भीम यादव, कुमार मंगलम पाण्डेय, प्रशांत सिंह, मनीष सिंह ‘डूलडूल’, अभिषेक द्विवेदी, रजनीश यादव, निशांत सिंह, चंदन यादव, राणा सिंह, गांगुली यादव, अमित कुमार, मृत्युंजय कुमार ‘बंटी’, अंशु कुमार, प्रकाश कुमार, कृष्णा हरि, सुमित कुमार, कृतिकान्त, कार्तिक, निशु, मंदीप, नीरज, छोटू, गुड्डू पासवान, सोनू यादव, रंजीत राणा, राहुल रजक, संजीव, धर्मेंद्र पासवान, ललन प्रसाद, पवन समेत कई लोग थे।

loading...
Loading...

Related Articles