Main Sliderउत्तर प्रदेशराष्ट्रीय

राम मंदिर पर बढ़ी सरगर्मी: उद्धव ठाकरे आज करेंगे सरयू आरती, हजारों शिवसैनिक पहुंचे अयोध्‍या

—शिवसेना लगातार इस मसले पर आक्रामक है और उसके नेता केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को जमकर निशाने पर ले रहे हैं

अयोध्या। शिवसेना और विश्‍व हिंदू परिषद (विहिप) के अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण को लेकर दबाव बनाने के बीच उत्‍तर प्रदेश में राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गई हैं. शिवसेना लगातार इस मसले पर आक्रामक है और उसके नेता केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को जमकर निशाने पर ले रहे हैं. शुक्रवार को पार्टी सांसद संजय राउत ने बाबरी मस्जिद विध्‍वंस का उदाहरण देते हुए अध्‍यादेश लाने की मांग की. वहीं बीजेपी सांसद रवींद्र कुशवाहा ने संसद के विंटर सेशन में बिल आने का दावा किया.मंदिर निर्माण की मांग को लेकर दबाव की रणनीति के तहत शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे शनिवार शाम पांच बजे के करीब अयोध्‍या में सरयू नदी की आरती में शामिल होंगे. ठीक इसी समय महाराष्‍ट्र में शिवसेना के हजारों कार्यकर्ता आरती करेंगे. वहीं उद्धव ठाकरे की पत्‍नी रश्मि ठाकरे मुंबई में सिद्धिविनायक मंदिर में शाम छह बजे आरती का नेतृत्‍व करेंगी.ठाकरे के साथ सरयू आरती में शामिल होने के लिए कई शिवसैनिक भी अयोध्‍या पहुंचने लगे हैं. शुक्रवार को स्‍पेशल ट्रेन से करीब दो हजार शिवसैनिक अयोध्‍या आए. वहीं शनिवार को भी एक स्‍पेशल ट्रेन आएगी और इसमें भी शिवसैनिक सवार हैं. कानून व्‍यवस्‍था को बनाए रखने के लिए रेलवे स्‍टेशन पर बड़ी संख्‍या में पुलिस बल तैनात हैं. अयोध्‍या में धारा 144 लगाई जा चुकी है. शनिवार को अयोध्‍या में स्‍कूल-कॉलेज बंद रहेंगे. शहर की करीब 50 स्‍कूलों में सुरक्षाबलों के कैंप लगाए गए हैं.25 नवंबर को विहिप की तीन धर्म सभाएं हैं. इनमें से एक अयोध्‍या में होगी जबकि बाकी दो नागपुर और बेंगलुरु में होनी है. अयोध्‍या में भीड़ इकट्ठा करने के लिए अवध और पूर्वांचल क्षेत्र में अभियान चल रहा है. करीब 40 जिलों में ये अभियान चल रहा है. जानकारी के अनुसार, बीजेपी संगठन भी इसमें मदद कर रहे हैं. हालांकि नेताओं से कहा गया है कि वे अपनी तस्‍वीरें, पार्टी के झंडे और चिह्न का इस्‍तेमाल पोस्‍टर व बैनर पर न करें. यह समर्थन पूरी तरह से गुप्‍त तरीके से दिया जा रहा है.वर्तमान में राज्‍य सरकार ने अयोध्‍या में कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए एक एडीजीपी, एक डीआईजी, तीन एसएसपी, 10 एएसपी, 21 डीएसपी, 160 इंस्‍पेक्‍टर, 700 कांस्‍टेबल, पीएसी की 42 कंपनियां, रैपिड एक्‍शन फॉर्स की पांच कंपनियां,एटीएस कमांडो और ड्रोन कैमरे तैनात किए हैं. विवादित जगह पर पहले से ही सुरक्षा का पहरा है. यहां पर अर्धसैनिक बल तैनात है जबकि बाकी जगह पर पीएसी मौजूद है,

loading...
Loading...

Related Articles