किसान की फोन कॉल पर डीजीपी ने रात 3 बजे रुकवाया अवैध खनन

डीजीपी ने एसपी को लगाई फटकार, डीजीपी के निर्देश पर 3 ट्रैक्टर और एक जेसीबी के साथ तीन खनन माफिया गिरफ्तार।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेश ओपी सिंह की तरह अगर पुलिस अधिकारी काम करें तो महकमें में बहुत जल्द ही बदलाव दिखने लगेगा। दरअसल प्रदेश सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद उप्र में अवैध खनन पर लगाम नहीं लग पा रहा है। खनन माफिया रात भर पुलिस की नाक के नीचे खनन करवा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला मिर्जापुर जिला का सामने आया। दरअसल यहाँ के एक किसान ने रात के तीन बजे डीजीपी को फोन कर अपनी जमीन पर जबरन खनन कराये जाने की जानकारी दी। जैसे ही डीजीपी ने किसान की फरियाद सुनी उन्होंने फौरन मिर्जापुर के एसपी को फोन करके फटकार लगाई। डीजीपी ने एसपी मिर्ज़ापुर को फ़ोन कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। डीजीपी के निर्देश पर तत्काल प्रभाव से पहुंची पुलिस ने अवैध खनन कर रहे 3 ट्रैक्टर और एक जेसीबी के साथ तीन लोगों को हिरासत में ले लिया। पुलिस इनके खिलाफ आगे की कार्रवाई कर रही थी।

एसपी ने गुस्सा करते हुए काट दिया था किसान का फोन
जानकारी के मुताबिक, पूरा मामला मामला बीती रात सोमवार 3 बजे का है। यहां मिर्ज़ापुर के जिगना थाना डमहर गांव के रहने वाले किसान राजा राम बताते हैं कि बीते 3 दिनों से राहुल समेत 5 लोग मेरी जमीन पर स्टे होने के बावजूद खनन करा रहे थे। इसकी शिकायत थानेदार, सीओ, एसपी तक की गई। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। इसके बाद हमने सोमवार देर रात 12 बजे फिर एसपी मिर्ज़ापुर से शिकायत की थी। उन्होंने फ़ोन उठाया और गुस्सा कर रख दिया। इसके बाद उन्होंने जिगना थाना के थानेदार को फ़ोन किया। उन्होंने ने भी पुलिस भेजने की बात करके गुस्सा कर फोन काट दिया। उन्होंने बताया जब कहीं से कोई कार्रवाई नहीं हुई तब उन्होंने रात में 3 बजे डीजीपी साहेब को फ़ोन किया जिसके बाद डीजीपी ने मिर्ज़ापुर एसपी को तत्काल कार्रवाई करने के आदेश दिया।

किसान राजाराम ने डीजीपी को किया था फोन
मिर्जापुर के राजाराम ने डीजीपी से फोन कर कहा, ” साहब हमारे जमीन का कोर्ट से स्टे है इसके बावजूद दबंग अवैध खनन करा रहे है। एसपी साहब को फ़ोन किया तो वो कहने लगे इतनी रात में फ़ोन कर रहे हो ये कह कर फ़ोन काट दिया। इसके बाद थानेदार को फ़ोन किया तो उसने कहा अभी पुलिस भेज देंगे फ़ोन रखो। काफी समय बीत जाने के बाद भी पुलिस नहीं आई।” किसान की इस पीड़ा के बाद डीजीपी ने कार्रवाई के निर्देश दिए।

एक फोन पर समस्या का समाधान पाकर खुशी से गदगद किसान
वैसे तो पीड़ित यूपी के थानों पर फरियाद लेकर चक्कर काटते रहते हैं। लेकिन उनकी समस्या का हल नहीं निकल पाता है। लेकिन पीड़ित किसान ने सीधे डीजीपी को फोन कर समस्या बताई तो उसका हल भी डीजीपी ने फौरन कर दिया। डीजीपी की कार्रवाई से किसान काफी खुश है। किसान का कहना है कि काश! ऐसे ही सभी पुलिस अधिकारी काम करें तो पुलिस विभाग की सूरत बदल जाये।

=>