Main Sliderउत्तर प्रदेशबुलंदशहर

बुलंदशहर में बवाल: इंस्पेक्टर की हत्या कर पुलिस चौकी फूंकी, फायरिंग में कई घायल

बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिला में एक बार फिर अवैध बूचड़खानों को लेकर हुए बवाल के बाद सोमवार को भीड़ हिंसक हो गई। बताया जा रहा है कि थाना कोतवाली क्षेत्र के गांव महाव के जंगल में रविवार की रात अज्ञात लोगों ने करीब 25-30 गोवंश काट डाले। गोवंश काटने की सूचना मिलने पर कई हिन्दू संगठनों सहित अन्य लोगों में आक्रोश फैल गया। गुस्साए लोग घटनास्थल पर पहुंचे और गोवंश के कटे अवशेषों को ट्रैक्टर ट्रॉली में भरकर चिंगरावठी पुलिस चौकी पर पहुंचे। गुस्साई भीड़ ने बुलंदशहर-गढ़ स्टेट हाईवे पर ट्रैक्टर ट्रॉली लगाकर रास्ता जाम कर दिया और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी। सूचना मिलने पर एसडीएम अविनाश कुमार मौर्य और सीओ एसपी शर्मा पहुंचे। इसके बाद लोगों का गुस्सा भड़क गया और पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया। पुलिस ने भी जवाब में फायरिंग की, जिसमें चिंगरावठी निवासी सुमित को गोली लग गई। इसके बाद युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी मौत हो गई। इसके बाद बेकाबू भीड़ ने पुलिस के कई वाहन फूंक दिए। साथ ही चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी।

गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पथराव करते हुए पुलिस के कई वाहन फूंक दिए और चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी। भीड़ की पिटाई के कारण स्याना कोतवाल सुबोध कुमार (Mob Lynching) गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां कुछ देर बाद उनकी मृत्यु हो गई। बवाल की जानकारी स्याना सहित अहार, बुगरासी, बीबीनगर सहित आसपास के कई थानों का पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। उधर, बुलंदशहर में इज्तेमा से लौट रहे हजारों वाहन भी बवाल के कारण फंस गए। भीड़ ने इज्तेमा से लौट रहे युवकों से भी मारपीट की। फिलहाल ऐसे वाहनों का रूट डायवर्ट कर औरंगाबाद से जहांगीराबाद से निकाला जा रहा है। मौके पर एसएपी और आला अधिकारी भारी पुलिस फोर्स के साथ मौजूद हैं। सीओ एसपी शर्मा ने इस मामले में स्याना कोतवाल सुबोध कुमार की मौत की पुष्टि की है। बताया जा रहा है कि इस मामले में पुलिस की गोली से घायल हुए युवक सुमित की भी मौत हो गई है। सूचना मिलने के बाद कई थानों की पुलिस और आला अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं और हालात को काबू में करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उधर, बुलंदहशहर में चल रहे इज्तेमा से लौट रहे कई वाहनों के फंसने से स्थिति विकट होती जा रही है।

बता दें सोमवार को गोकशी को लेकर जमकर हंगामा हुआ। जहां हिन्दू संगठनों ने गोवंश मिलने के बाद सड़कों पर उतरकर पुलिस से कार्रवाई की मांग करने लगे। गुस्साए लोगों ने चिंगरावठी चौराहे पर हंगामा करते हुए पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान कुछ लोगों ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया। जब पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करके खदेड़ा तो लोगों ने कई वाहनों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। फायरिंग के दौरान कोतवाली प्रभारी स्याना सुबोध कुमार सिंह की गोली लगने से मौत हो गई। घटना स्याना कोतवाली क्षेत्र की चिंगरावठी इलाके की है। मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। वहीं एक पुलिस इंस्पेक्टर समेत कई पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि भीड़ में कुछ अराजकतत्वों ने फायरिंग की। आरोप है कि इसी फायरिंग के दौरान इंस्पेक्टर की गोली लगी, जहां उसकी मौत हो गई। इस घटना में एक ग्रामीण को भी गोली लगने की सूचना है। बवाल के बाद मौके पर आईजी मेरठ जोन घटनास्थल पर पहुँच गए हैं।

सोमवार को में अवैध बूचड़खानों को लेकर हुए बवाल के दौरान चली गोली से इंस्पेक्टर स्याना सुबोध कुमार सिंह की मौत ने सियासी तूल पकड़ लिया है। विपक्ष ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि लोकतंत्र में भीड़तंत्र का हावी होना सरकार की मंशा पर सवाल खड़े करता है। समाजवादी पार्टी ने कहा कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि बीजेपी सरकारों में भीड़तंत्र लोकतंत्र पर हावी हो रहा है। जिस सरकार में अपराधियों के खिलाफ एनकाउंटर का अभियान चलाया जा रहा हो वहां पुलिस वाले की हत्या भीड़ द्वारा किया जाना शर्मनाक और बेहद चिंताजनक है। यूपी में भीड़तंत्र का बढ़ता आतंक कहीं न कहीं यह इशारा करता है कि इन्हें सरकार का शह प्राप्त है। समाजवादी पार्टी के प्रवक सुनील कुमार सिंह साजन ने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था काफी चिंताजनक है। पुलिस वाले की हत्या हो रही है। इन उपद्रवियों को कहीं न कहीं सरकार का संरक्षण दे रही है।

उधर मामले में कांग्रेस ने कहा कि यह सरकार जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आता है सांप्रदायिक तनाव को फैलाने का काम कर रही है। कांग्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने कहा कि सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिनके पास गृह विभाग भी है, वे दूसरे राज्यों के चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। उनके राज्य में पुलिस वाले की हत्या हो जा रही है और वे देश भ्रमण पर निकले हैं। सुरेंद्र राजपूत ने कहा कि कानून व्यवस्था को लेकर यह सरकार पूरी तरह विफल है। मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी सरकार नहीं चला पा रही है तो उसे इस्तीफा दे देना चाहिए।

loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com