योजनाओं के संचालन में किसी भी स्तर पर अनियमितता बर्दाश्त नही होगी- अनुराग

देवरिया। शासन द्वारा संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं को गांव स्तर तक विभागीय अधिकारी आपसी समन्वय बनाकर संचालित कराते हुए पात्रो को लाभान्वित कराये, जिससे योजनाओं की उद्देश्य पूर्ति होने के साथ-साथ वंचितो/जरुरतमंदो को लाभ मिल सके। सचिव उ0प्र0 शासन नगर विकास विभाग लखनऊ श्री अनुराग यादव ने उपरोक्त निर्देश कलक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित विकास कार्यो की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को दिये। उन्होने कहा कि चयनित ग्रामों को यथाशीघ्र मानक के अनुरुप योजनाओं संतृप्त कराना सुनिश्चित करें। उन्होने स्पष्ट किया कि किसी भी कार्य में शिथिलता/अनियमितता बर्दाश्त नही की जायेगी। कार्यो में शिकायत प्राप्त होने पर संबंधित को बख्शा नही जायेगा। उन्होने विभिन्न विभागो यथा- शिक्षा, ए0आर0टी0ओ0, आपूर्ति, स्वास्थ्य, विधुत, ग्राम विकास, पेयजल, मनरेगा, वन, नेडा, कृषि, पी0डब्लू0डी0, समाज कल्याण, प्रोबेशन, अल्पयंख्यक, पिछडा वर्ग कल्याण, मण्डी परिषद, सेतू निगम, डूडा, खनन सहित आई0ई0एस0 आदि के कार्यो की समीक्षा विस्तारपूवर्क की। श्री यादव ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यो की साप्ताहिक समीक्षा करने के निर्देश मुख्य चिकित्साधिकारी को देते हुए कहा कि समीक्षा के साथ-साथ यह भी सुनिश्चित करें कि जो सबसे खराब कार्य कर रहा हो, उसे दंडित भी करायें। लोगो को स्वास्थ्य सेवाओं का समय से उचित लाभ मिले, इसके आप अपने स्तर से लगातार मानीटरिंग करें। उन्होने कहा कि एम्बूलेंस सेवा 102 व 108 के संचालन की भी मानीटरिंग करे और समय से सेवा का लाभ भी प्राप्त हो सकें। उन्होने विधुत विभाग की समीक्षा मे पाया कि कार्य की प्रगति काफी धीमी है, जिससे आमजन को लाभ नही मिल पा रहा है, जिस पर उन्होने अधीक्षण अभियंता विधुत को समय अनुरुप कार्य योजना बनाकर कार्य कराने के साथ ही उसकी समीक्षा करें ताकि कार्य में देरी न हो और समय से पूर्ण हो सके। उन्होने कार्यदायी संस्थाओं को निर्देश दिये कि जो भी कार्य की स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है और धन आवंटित हो चुका है, उसमें विलम्ब न करते हुए मानके और गुणवत्ता के अनुरुप समायान्तर्गत कार्य पूरा कराये। उन्होने सभी को स्पष्ट निर्देश दिया कि कार्य की सूचना निर्धारित प्रारुप पर सही-सही अंकित की जाये, जिससे गतवर्ष सहित विगत वर्ष के सापेक्ष भी उसकी प्रगति की समीक्षा की जा सके और जिसमें विलम्ब का जो कारण हो, उसका भी उल्लेख किया जाये, जिससे उसका निराकरण कराया जा सके। उन्होने कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान खाद, बीज की उपलब्धता सहित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की स्थिति को भी जानते हुए अधिक से अधिक लागो का पंजीकरण एवं के0सी0सी0 बनाने के भी निर्देश दिये। मनरेगा कार्यो का सत्यापन कराने तथा जाॅब कार्ड आदि की फीडिंग व कार्य मुहैया कराने के भी निर्देश दिये। गढ्ढामुक्त सडको की प्रगति हेतु नोडल अधिकारी लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि सभी की जानकारी प्राप्त कर विभागवार सूची कार्यानुरुप तैयार कर उपलब्ध कराये, जिससे कार्य की जाॅच की जा सके। उन्होने एल0डी0एम0 को निर्देशित किया कि ऋण संबंधी जो भी आवेदन बैंको में विभिन्न योजनाओं के लंबित पडे है, उनका स्वयं संज्ञान लेकर उनका निस्तारण करायें, जिससे बेरोजगारो को ऋण प्राप्त हो और वह अपना रोजगार प्रारम्भ कर अपनी आजीविका प्रारम्भ कर सके। मा0 सचिव ने कहा कि जिस विभाग की शिकायते लंबित है, वह विशेष रुचि लेकर उनका तत्काल निस्तारण कराये जिससे लोगो की समस्याओं का समाधान सम्भव हो सके और वह न्याय पा सके। उन्होने जल निगम के कार्यो की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि सभी को पेय जलापूर्ति सुनिश्चित करायें। इसके लिये यदि कही पाइप लाइन टूटी है या कोई परियोजना बंद है तो आवश्यक कार्यवाही करते हुए उसे संचालित कराये। श्री यादव ने वसूली कार्यो की समीक्षा करते हुए कहा कि सभी संबंधित लक्ष्य के सापेक्ष वसूली सुनिश्चित करें, इसके लिये प्रवर्तन कार्य आदि की कार्यवाही सत्त रुप से जारी रखे जिससे लक्ष्य की पूर्ति सुनिश्चित हो सके। बैठक में जिलाधिकारी अमित किशोर, मुख्य विकास अधिकारी राजेश कुमार त्यागी, मुख्य राजस्व अधिकारी राम सहाय यादव, ए0डी0एम0 वित्त एवं राजस्व सीताराम गुप्त, ए0डी0एम0ई0 राकेश कुमार पटेल, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 धीरेन्द्र कुमार, डी0एफ0ओ0 पी0के0 गुप्ता, डी0डी0ओ0 श्रीकृष्ण पाण्डेय, डी0सी0 मनरेगा गजेन्द्र तिवारी, परियोजना निदेशक डी0आर0डी0ए0 महेश नारायण पाण्डेय, समाज कल्याण अधिकारी दीनानाथ शुक्ल, ए0आई0जी0स्टाम्प राधाकृष्ण, एस0डी0एम0 सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारी आदि उपस्थित थे।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper