नयति मेडिसिटी हाॅस्पीटल में पिता की मौत के बाद बेटे ने लगाए गंभीर आरोप

मथुरा। हाइवे स्थित नयति मेडिसिटी हाॅस्पीटल में उपचार के बाद पिता की मौत हो गई। इसके बाद बेटे ने अस्पताल प्रशासन पर कई गंभीर आरोप लगाए है। ये वीडियो सोशल साइट पर तेजी के साथ वायरल हो रहा है।
29 अक्टूबर को द्वारिका पुरी निवासी प्रभाकर शर्मा अपने पिता और बिजली विभाग के पूर्व अभियंता बीएन शर्मा को पेट दर्द, उल्टी की शिकायत पर नयति अस्प्ताल ले गए। यहां चिकित्सकों ने उन्हें प्राथमिक उपचार दिया और उसके बाद उन्होंने पिता की पिछली रिपोर्ट के बारे में पूछा। इसी के साथ उनसे 45 हजार रूपए जमा कराने को कहा गया। घबराए परिजनों ने पैसे जमा कराए और पिता को भर्ती करा दिया।
बेटे ने बताया कुछ देर बाद ही चिकित्सकों ने कहा कि आपके पिता की तबियत नाजुक है उन्हें वेंटीलेटर पर रखना चाहिए। ये सुनकर बीएन शर्मा के पुत्रों प्रभाकर और आशीष शर्मा के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। अच्छे भले पिता जो पैदल चलकर अस्पताल में भर्ती हुए उन्हें अचानक ऐसी कौन सी परेशानी हो गई कि उन्हें वेंटीलेटर पर रखने की जरूरत महसूस की जा रही है। पुत्र का कहना है कि हमें अपने पिता को वेंटिलेटर पर रखने की अनुमति देनी पड़ी। बेटे प्रभाकर शर्मा ने बताया कि मशीन के माध्यम से उनके पिता को कई इंजेक्शन दिए गए जिससे वो कराह रहे थे। आखिरकार मेरे पिता ने दम तोड़ दिया।
पीड़ित परिवार ने इस मामले में प्रधानमंत्री कार्यालय, मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल, मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया में भी शिकायत दर्ज कराई है। पूरे मामले में कोई कार्रवाई न होेने के बाद अब मानव अधिकार आयोग का दरवाजा खटखटाया गया है।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper