दरोगा ने घायल बच्ची को गोद में उठाकर पहुँचाया अस्पताल, हो रही प्रशंसा

हरदोई। उत्तर प्रदेश के हरदोई जिला में एक नशेड़ी युवक की गोली का शिकार हुआ एक युवक और एक मासूम बच्ची की जान एक जांबाज दरोगा ने समय रहते अस्पताल ले जाकर बचा ली। गोली चलने की सूचना मिलते ही घटना पर पहुंचे दारोगा ने सबसे पहले मौके पर पहुंचकर एम्बुलेंस का इंतजार किये बगैर गोली लगने से घायल बच्ची को अपनी गोद में उठाया और अस्पताल की तरफ भाग पड़ा। बच्ची को अस्पताल पहुंचाकर दरोगा ने उसे जीवनदान देने का काम किया है। यूपी पुलिस के इस जांबाज दरोगा की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। दरोगा के इस नेक काम की लोग खूब प्रशंसा कर रहे है। वहीं फोटो को लोग लाइक और शेयर भी कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार, घटना हरियावां थाना क्षेत्र की है। यहां ग्राम लिलवल निवासी रमेश पुत्र सियाराम अपनी मां लडैती को नशे में गाली गलौज कर रहा था। इसके बाद उसने उन्हें पीटना शुरू कर दिया। चाचा आशाराम पु़त्र जोक्खा ने रमेश को डांटा तो वह आग बबूला हो गया और घर में रखी लाइसेंसी बंदूक उठाकर उनके घर पहुंच गया। घर के बाहर खड़े चाचा पर रमेश ने फायर कर दी। जो उनके पैर में जा लगी। इसी दौरान वहां से गुजर रही गांव निवासी कमलेश की बेटी रजनी (9) को भी गोली लगी। गोली के बाद गांव में हड़कंप मच गया। फायर की आवाज सुनकर आस पास के लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी।

सूचना मिलते ही हरियावां थाना में तैनात उप निरीक्षक बालेंद्र मिश्रा ने रजनी को गोद में उठाकर अस्पताल पहुँचाया और उसकी जान बचा ली। फिर पुलिस ने सभी घायलों को घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा। इधर आरोपित रमेश बंदूक एक गन्ने के खेत मे फेंककर भागने लगा। लेकिन उसके दूसरे चाचा सुखराम ने उसे पकड़ लिया। जानकारी मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। सुखराम ने रमेश को पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने फेंकी गई बन्दूक को भी खेत से बरामद कर लिया। एसओ फूलचंद्र ने बताया कि नशे की हालत में रमेश ने अपने चाचा को गोली मार दी, उसे गिरफ्तार कर लिया गया है कार्रवाई की जा रही है।

=>