अमेठी में सर्द मौसम में चढ़ा सियासी पारा, सुबह स्मृति गरजी तो शाम को राहुल बरसे

अमेठी। उत्तर प्रदेश के अमेठी जिला में शुक्रवार को सर्दी की जगह सियासी पारा चढ़ने से मौसम गरम हो गया। सुबह केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी दस बजे लखनऊ एअरपोर्ट पहुंची। यहां से वह सड़क मार्ग से दोपहर 12 बजे गौरीगंज स्थित जिला अस्पताल पहुंची। यहां उन्होंने सीटी स्कैन मशीन का उद्घाटन किया। साथ ही, अमेठी में रजाई वितरण समेत कई कार्यक्रमों में शिरकत की। अमेठी में स्मृति ने राहुल गांधी पर हमला बोला। ईरानी ने कहा- मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने यूपी-बिहार वालों को लेकर विवादास्पद बयान था। इसके बाद भी राहुल गांधी खामोश क्यों हैं? आज वे अमेठी के लोगों की नजरों से नजर कैसे मिलाएंगे। इसके बाद वे सड़क मार्ग से लखनऊ पहुंची और शाम को सारे कार्यक्रम समाप्त करने के बाद वह दिल्ली लौट गईं।

बता दें कि स्मृति ईरानी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। उस वक्त ईरानी को हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन उन्होंने राहुल को कड़ी टक्कर जरूर दी थी। इसके बाद से ईरानी लगातार अमेठी में सक्रिय हैं। माना जा रहा है कि 2019 में भी दोनों का आमना-सामना हो सकता है। ऐसे में स्मृति ईरानी बार-बार अमेठी के दौरे कर रही हैं। करीब 15 दिन में यह उनका दूसरा अमेठी दौरा है। इससे पहले वे 23 दिसंबर को खादी ग्रामोद्योग की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुई थीं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में सियासी पारा शुक्रवार को उस वक्त चढ़ गया जब सर्द मौसम में केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी गरजी। वहीं शाम को कांग्रेस अध्यक्ष भाजपा पर बरसे। पहले स्थिति थी कि दोनों नेताओं को एक ही समय में अमेठी में रहना था, लेकिन अचानक राहुल गांधी के कार्यक्रम में बदलाव की वजह से यह स्थिति टल गई। माना जा रहा है कि स्मृति ईरानी इस बार भी यहीं से चुनाव लड़ेंगी। दोनों ही दलों के कार्यकर्ताओं में उत्साह उफान पर महसूस किया जा रहा था। भाजपा कार्यकर्ता जहां राहुल गांधी को काले झंडे दिखाने की तैयारी कर रहे थे, वहीं, तीन राज्यों में सरकार बनाने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता भी स्मृति ईरानी के दौरे का विरोध करने की फिराक में थे।

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज (4 जनवरी को) 2 दिवसीय दौरे पर अमेठी पहुँच रहे हैं। वे शुक्रवार दोपहर बाद हवाई जहाज से फुरसतगंज पहुंचे। इसके बाद सलोन व परशदेपुर होते हुए गौरीगंज स्थित कलेक्ट्रेट गए, यहां राहुल गांधी ने अधिवक्ता भवन का उद्घाटन किया। वहीं, 5 जनवरी को अमेठी के लोगों से मुलाकात करेंगे। गौरतलब है कि पीएम मोदी के रायबरेली दौरे के बाद राहुल पहली बार अपने संसदीय क्षेत्र में जा रहे हैं।

राहुल के अमेठी पहुंचने से पहले ही शहर में पोस्टर वार
पांच राज्यों में कांग्रेस को मिली जीत के बाद 4 जनवरी की शाम को राहुल अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी पहुंचे। उनके यहां पहुंचने से पहले ही शहर में जगह-जगह पोस्टर लगाए गए थे। इन पोस्टर में मध्य प्रदेश के नवनियुक्त मुख्यमंत्री कमलनाथ के उस बयान को लेते हुए राहुल गांधी पर वार किया गया। जिसमें उन्होंने यूपी-बिहार वालों पर टिप्पणी की थी। इतना ही नहीं यहां पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने भी कमलनाथ के बयान पर राहुल की चुप्पी को लेकर सवाल उठाए। अमेठी में लगाए गए पोस्टरों में उन खबरों की क्लिपिंग भी चस्पा की गई जो कमलनाथ के बयान के बाद छापी गई थीं।

पोस्टरों के जरिए समाजवादी पार्टी पर भी निशाना
इन पोस्टरों के जरिए समाजावादी पार्टी पर भी निशाना साधा गया। इनमें लिखा है कि समाजवादी पार्टी के आशीर्वाद से कांग्रेस पार्टी के कमलनाथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने हैं। कमलनाथ ने उत्तर प्रदेश के लोगों को रोजगार से हटाने का बयान दिया। इस बयान पर कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी जवाब दें। कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री बनते ही कहा था कि मध्य प्रदेश में ऐसे उद्योगों को छूट दी जाएगी, जिनमें 70 फीसदी नौकरी मध्य प्रदेश के लोगों को दी जाएगी। कमलनाथ ने कहा, ‘बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के लोगों के कारण मध्य प्रदेश के स्थानीय लोगों को नौकरी नहीं मिल पाती है।’ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के जरिए राहुल के घेरने वाले इन पोस्टर्स पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने आपत्ति जाहिर की। इधर पुलिस प्रशासन के लोग भी ऐक्टिव हुए। इन पोस्टर्स को मुख्य जगहों से हटाया गया।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com