पारिवारिक विवाद का हवाला देने पर बिफर पड़ी एसएसपी ,बोली – क्या जान चले जाने पर करेंगे कार्रवाई

पीडि़त महिला और बेटी शिकायत लेकर पहुंची थीं एसएसपी कार्यालय ,कीं शिकायत शराब पीकर करता हैं मारपीट

>> केस दर्ज हैं लेकिन पुलिस कार्रवाई के नाम पर करती हैं गुमराह

>> पीडि़त को बता दिया गया ,कर दिया गया है चार्जशीट ,एसएसपी के पूछने पर थानेदार ने कहां ,कर रहें हैं जांच

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । एसएसपी कार्यालय में प्रतिदिन के भांति बुधवार को भी फरीयादियों की भीड़ थीं । एक-एक कर पीड़ितों से एसएसपी गरिमा मलिक मिल रहीं थीं ।इसी क्रम में एक महिला अपनी जवान बेटी के साथ अपनी शिकायत लेकर पहुंची और आवेदन दीं । एसएसपी के पूछने पर पीडि़त परिवार बताई की केस किये हैं ,कार्रवाई के लिए कहते हैं तो थानेदार कहते हैं की तुम्हारा केस बंद हो गया ,चार्जशीट कर कोर्ट को भेज दिये हैं ,कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती ।और आगे पीडि़त परिवार बताई की मेरा पति और देवर शराब पीकर आता है और मारपीट करता हैं । पुलिस को सूचना देते हैं तो कोई कार्रवाई नहीं की जाती ।
एसएसपी गरिमा मलिक ,शाहपुर थाने से बात कराने को कहती हैं । उक्त महिला के शिकायत के बारे में थानेदार से जानकारी लेती हैं तो उधर से थानेदार बोलते हैं की मामले की जांच की जा रहीं हैं ,मैडम ,मामला परिवारिक हैं । बस इतना सुनना था की एसएसपी गरिमा मलिक बिफर पड़ी और फोन पर ही खड़ी-खड़ी सुना दीं ,क्या किसी की जान चली जाएगी तब कार्रवाई कीजिएगा। पीडि़ता को क्यों बताया गया की चार्जशीट कर दिया गया ,जबकि आप बता रहें है की अभी चार्जशीट नहीं हुई है जांच की जा रहीं हैं । जल्द चार्जशीट करें ,और कोई शराब पीने की सूचना मिले तो जल्द गिरफ्तार करें ।यही नहीं एसएसपी ने सीधे चेतावनी दी की अगली बार से मैं फोन नहीं करूंगी ,सीधे आपके विरूद्ध एक्शन लूंगी। चेत जाएं ,यह सब झूठ नहीं चलने वाला ।
=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com