जाने राहुल के गढ़ से कैसे होती है कछुओं की तस्करी

सुल्तानपुर: यात्री ट्रेनों में किसी भी प्रकार के अवैध समान का आवागमन न हो सके किसी भी प्रकार का ट्रेनों में विबाद उतपन्न न हो सके जिसके तहत एक्सप्रेस से लेकर पैसेंजर ट्रेनों में रेलवे पुलिस फोर्स की तैनाती रहती है लेकिन ताज्जुब की बात यह है कि आर पी एफ के होने के बाउजूद भी तस्कर अपना काम बखूबी करते चले आ रहे है और आर पी एफ के कानो में भनक भी नही लगता जब आर पी एफ के कानों में भनक लगती है तो उनके हाथों से वह सब कुछ निकल जाता है जो ट्रेन के जरिये हो रहा होता है।

क्या है मामला—-

जनपद के रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार की सुबह आर पी एफ की आँखों में किरकिरी तब लगी जब जनपद की जी आर पी  सुबह लगभग साढ़े दस बजे कुम्भ एक्सप्रेस ट्रेन चेक के दौरान तीन बैग व् एक बोरे में भरा कछुआ बरामद किया बहरहाल बताया जा रहा है कि यह कछुआ तस्कर लखनऊ के किसी बीच के स्टेशन से चढ़े थे जिनके पास भारी मात्रा में कछुआ था जब सुल्तानपुर जंक्शन ट्रेन पहुंचीतो जी आर पी ने ट्रेन के डिब्बो को चेक करना शुरू किया तो एक डिब्बे में कई बैग व् बोरे दिखाई पड़े जिसकी जब पड़ताल हुआ तो उसमें से गंध महसूस हुआ तो जी आर पी ने बैग व् बोरे के  मालिक की पूछतांछ की तो किसी ने जवाब नही दिया ट्रेन चलने के कगार पर हो गई तो जी आर पी जवानों ने तीन बैग व् एक बोरा ही उतार पाये ट्रेन में और कछुआ होने की खबर आर पी एफ को दिया तो पता चला है कि बनारस रेलवे स्टेशन पर और कछुओं के बोरो के साथ महिला सहित कई लोग आर पी एफ की गिरफ्त में है ।
आये वन क्षेत्राधिकारी तो खुला राज—-
जब वन क्षेत्राधिकारी अमर जीत मिश्रा को मामले की सूचना लगी तो अपने दल बल के साथ पहुंचे वन क्षेत्रकाधिकारी ने बैग व् बोरे को खुलवाया तो एक बैग में 30 दूसरे बैग में 39 तीसरे में बैग में 30और बोरे में 59 कछुआ मिले जिन्हें वन क्षेत्राधिकारी ने अपने कब्जे में लिया जब इस सम्बन्ध में वन क्षेत्राधिकारी अमरजीत मिश्रा से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि 159 कछुओं की बरामदगी हो चुकी है अगर इस ट्रेन से आगे किसी स्टेशन पर कछुआ पकड़ा गया होगा तो उस केस के साथ इस केश को जोड़कर कार्यवाही की जायेगी क्यों कि ट्रेन में और कछुआ मिलने की खबर पर जी आर पी ने आर पी एफ को सूचना दे दिया है उन्होंने आगे यह भी कहा कि न्यायिक मजिस्ट्रेट के समछ मामले प्रस्तुत कर आदेशानुसार कार्यवाही की जायेगी कछुओं के तस्करी के बारे में अमर जीत मिश्रा ने बताया कि कुम्भ एक्सप्रेस बंगाल की ट्रेन थी जगदीशपुर व् अमेठी क्षेत्र से इन कछुओं की तस्करी की जा रही है जी आर पी की मदद से पहले भी कई बार कछुओं की तस्करी का भंडाफोड़ किया जा चूका है।
https://youtu.be/G8ykc9PToSI
=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com