नरेश अग्रवाल ने अंशुल वर्मा पर बोला हमला, कहा- सूर्य अस्त भाजपा सांसद मस्त

हरदोई। पिछले दिनों पासी सम्मलेन में खाने के पैकेट के साथ देशी दारू बांटे जाने के बाद भाजपा सांसद अंशुल वर्मा ने कहा था कि नरेश की पार्टी विरोधी गतिविधियां हैं। उन्होंने सीएम को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की थी। इसके जबाव में पूर्व राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने भाजपा सांसद पर हमला बोला है। उन्होंने अपने आवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि दलितों का अपमान मैंने नहीं किया, बल्कि दलित विरोधी मानसिकता रखने वाले उन लोगों ने किए जिन्हें दलितों का सम्मेलन मंदिर परिसर में किया जाना नागवार लगा।

सूर्य अस्त सांसद मस्त
हरदोई में अपने आवास पर मीडिया से मुखातिब पूर्व राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने हरदोई के सदर सांसद अंशुल वर्मा पर सीधा-सीधा हमला बोलते हुए कहा कि जिस व्यक्ति की छवि खुद ऐसी हो, वह दूसरों को नसीहत कैसे दे सकता है। उन्होंने आरोप लगाया कि सांसद के बारे में तो मशहूर है कि ‘सूर्य अस्त सांसद मस्त’ नरेश अग्रवाल ने स्पष्ट शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि यदि कोई मेरा व्यक्तिगत विरोध करेगा तो वह अपने बारे में कुछ सोच ले कि उसका कितना नुकसान होने वाला है। उन्होंने कहा कि जिनके खुद के घर शीशे के होते हैं वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते हैं। उन्होंने मंदिर परिसर में शराब बांटे जाने की घटना को उनके विरोधियों की एक साजिश बताया।

ये है पूरा मामला
गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता नरेश अग्रवाल ने यूपी के हरदोई जिला में पासी सम्मलेन के दौरान खाने के लंच पैकेट में देशी शराब की शीशी एक धार्मिक स्थल पर बांटवा दी थी। ये शराब के पौवे बड़े और बुजुर्गों के साथ ही नाबालिग बच्चों को भी बांटे गए। इस मामले ने तूल पकड़ लिया तो शराब वितरण से नाराज सदर सांसद अंशुल वर्मा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की थी। सांसद ने पत्र के जरिये कहा है कि शराब का वितरण उनके समाज के लिए गलत और निंदनीय है। पार्टी विरोधी गतिविधियों को पार्टी गम्भीरता से ले अन्यथा हमें सड़क पर उतरना पड़ेगा। सांसद ने कहा यदि प्रकरण पर अधिकारियों की लापरावही है तो उन पर भी कड़ी कार्यवाई की जानी चाहिए। शराब बांटे जाने का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

=>