हरदोई- सरकारी फरमान बेअसर रोड पर छुट्टा गौवंशो की भरमार

सड़कों पर घुमंतू जानवरों में नहीं आ रही कमी और गौशाला हुआ फुल आखिर कहां से गौवंशो को लाकर गौशाला किया गया फुल

बिलग्राम हरदोई :- बढ़ती गौवंशो की तादाद कम होने का नाम नहीं ले रही है। सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद किसानों के लिए ये अभी भी सिर दर्द बने हुए हैं। गांव से लेकर कस्बों तक जहां भी देखो गौवंश आज भी टहलते नजर आ रहे हैं। जिससे साफ पता चलता है कि कहीं न कहीं अधिकारी सरकार के सख्त निर्देशों को दरकिनार कर ढुलमुल रवैया अपना रहें हैं। इन्हीं छुट्टा गौवंशो से बर्बाद हो रही किसानों की फसलों और रोज हो रहे एक्सीडेंट को देखते हुए सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने सख्त लहजा दिखाते हुए साफ शब्दों में कहा था कि दस जनवरी तक सडकों पर कोई घुमंतू गौवंश नहीं दिखाई पडना चाहिए। जिसके लिये जिले को एक करोड़ से ज्यादा का धन भी मुहैया कराया गया था। बिलग्राम नगरपालिका द्वारा भी नगर के मुख्य चौराहे पर एक अस्थाई गौशाला बनाया गया जिसमें सडकों पर घूम रहे गौवंशो को बंद करने की बात कही गई थी । इस गौशाला में बंद होने वाले जानवरों के खाने के लिए भूसा चारा आदि की व्यवस्था के लिये यहां पालिका के अधिशासी अधिकारी उमेश कुमार मिश्रा ने नगरवासियों से खूब चंदा भी इकट्ठा किया। अस्थाई गौशाला बनते ही दूसरे दिन उसपर फुल का बोर्ड लगा दिया गया। अब इतनी जल्दी कहां से पकड़ 90 गौवंशो को लाकर बंद किया गया ये सोचने वाली बात है। जबकि नगर में अब भी जहां भी देखो जगह जगह पर गौवंश टहलते नज़र आ रहे हैं। वहीं नगरवासियों का कहना है कि अब भी नगर में काफी तादात में गौवंश घूम रहे हैं और गौशाला फुल है अब कहाँ से इन गौवंशो को लाया गया है ये सोचने वाली बात है। इस संबंध में जब अधिशासी अधिकारी से बात हुई तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जितने गौवंश नगर में घूम रहे थे वो पकड़े जा चुके हैं और जो घूम रहे हैं उन्हें आसपास के गांवों वाले नगर में पकड़ कर छोड़ गये हैं

=>