बोले राहुल: कांग्रेस की सरकार आने पर, राफेल खरीद की जांच होगी

द्रमुक अध्यक्ष स्टेलिन को अगला मुख्यमंत्री कहा – करुणानिधि एवं कामराज की भावभीनी स्मरण किया

तमिलनाडु ब्यूरो से डॉक्टर आर.बी. चौधरी
चेन्नई (तमिलनाडु)। तमिलनाडु के नागरकोइल में जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस की सरकार आने पर इस मामले की तह तक जाएंगे जिसके लिए उच्चस्तरीय जांच बैठाएंगे क्योंकि राफेल की खरीदारी का मामला बहुत गंभीर है।द्रमुक अध्यक्ष स्टेलिन को भावी मुख्यमंत्री बताते हुए तमिलनाडु के नेता करुणानिधि एवं कामराज के लोकप्रियता एवं योगदान को स्मरण किया।

राहुल गांधी ने भाजपा नेताओं पर देश बांटने का आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी को पता है कि कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन की सरकार ही अब सत्ता में आएगी।गठबंधन सरकार को रोकने का उनका प्रयास विफल होगा और पराजय ही उनके हाथ लगेगा। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार आते ही राफेल सौदे की जांच शुरू होगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्योगपति अनिल अंबानी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि वह रॉबर्ट वाड्रा की जांच की बात अक्सर करते रहते हैं लेकिन प्रधानमंत्री राफेल मामले की जांच क्यों नहीं कराते।उन्होंने कहा कि मैं बहुत खुश होऊंगा , वह जांच तो करें ,मैं यह कहने वाला पहला व्यक्ति हूं। चेन्नई के स्टैला मैरिस कॉलेज में भी छात्रों के साथ बातचीत करते हुए राहुल गांधी ने राफेल सौदे का जिक्र किया और कहा कि देश के प्रधान मंत्री का नाम सरकारी दस्तावेजों में मौजूद है। इसे नकारा नहीं जा सकता।

कांग्रेस अध्यक्ष ने मोदी सरकार पर कश्मीर मुद्दे को गलत बताने का भी आरोप लगाया। उन्होंने दावा किया कि 2004 और 2014 के बीच, कांग्रेस सरकार ने कश्मीर के लोगों के साथ बेहतर बर्ताव किया जिससे वहां के माहौल में व्यापक सुधार हुआ। इसका नतीजा था कि कश्मीर में आतंकवाद को काफी हद तक कम किया गया था। किंतु , मोदी सरकार की गलत नीतियों कश्मीर अलग-थलग पड़ गया है।उन्होंने कहा कि इससे पाकिस्तान को आतंकवादी कार्य करने की सहूलियत मिली है। कश्मीरी भाई कोई अलग नहीं है हमारे ही परिवार हैं किंतु आज हमारी दूरी बढ़ गई है।

उन्होंने कहा कि आज मोदी सरकार की नीतियों के वजह से जीएसटी भारी मार पड़ी है और देश भर में लाखों छोटे, लघु और मध्यम उद्योगों का सामूहिक सफाया हो गया है। इनसे जुड़े हुए लोग तथा कार्यरत करोड़ों श्रमिक बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। चक्रवात “ओखी” के बाद कन्याकुमारी जिले में अपनी यात्रा को याद करते हुए जिले की तबाही का याद किया और कहा कि उनकी पार्टी अगर सत्ता में आते ही तो देश भर में मछुआरों की रोजमर्रा की समस्याओं को कम करने के लिए उनकी सरकार मत्स्य पालन के लिए एक अलग मंत्रालय बनाएगी। ।

उन्होंने केंद्र सरकार की नौकरियों तथा लोकसभा और राज्यसभा में महिलाओं के लिए 33% आरक्षण का वादा किया।अपने संबोधन में द्रमुक अध्यक्ष स्टालिन को अगला मुख्यमंत्री होने का इशारा भी किया। साथ ही साथ तमिलनाडु की भाषा,संस्कृति और रीति-रिवाजों के सम्मान के लिए अपनी प्रतिबद्धता को फिर से दोहराया और तमिलनाडु के नेताओं का उदाहरण दिया और कहा कि करुणानिधि एवं कामराज जैसे नेताहमारे आदर्श हैं। राहुल ने उनकी लोकप्रियता एवं योगदान को स्मरण किया।

=>