लोकसभा चुनाव : यूपी में 18 साझा रैलियां करेंगे माया और अखिलेश

लोकसभा चुनाव का ऐलना होने के बाद सभी राजनीतिक दलों ने जोर तोड़ की राजनीति शुरु कर दी है। वहीं देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा ने अन्य सहयोगी दलों के साथ साझा रैलियां करने की तैयारियां को अंतिम रुप देना शुरु कर दिया है। साझा रैली की शुरुआत पश्चिम यूपी की सहारनपुर सीट से हो सकती है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती लोकसभा चुनाव के दौरान एक साथ 18 साझा रैलियां करेंगे। माना जा रहा है कि लगभग हर मंडल में कम से कम एक और मजबूत माने जाने वाले मंडलों में कम से कम दो साझा रैली हो सकती हैं। मायावती और अखिलेश की 18 साझा रैलियों में से सिर्फ पहली रैली की तारीखों का ऐलान हुआ है जो 7 अप्रैल को देवबंद में आयोजित होगी। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल की संयुक्त चुनाव रैली होली के बाद शुरू होगी।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से इन संयुक्त रैलियों की शुरुआत (सात अप्रैल 2019) नवरात्र से होगी, इस रैली में बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष अजीत सिंह संबोधित करेंगे। उत्तर प्रदेश की राजनीति में मायावती और अखिलेश की यह नई जोड़ी सिर्फ साझा रैलियों में ही नहीं बल्कि चुनाव सामग्रियों में भी दिखेगी। दोनों की एकता दिखाती पोस्टर्स, बैनर, टोपी और टी-शर्ट के अलावा सभी जगहों पर दोनों नेताओं की साझा तस्वीरें दिखाई दे सकती हैं।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा अध्यक्ष मायावती के बीच बुधवार को हुई बैठक में दोनों नेताओं की साझा रैलियों को लेकर बात हुई।अब दोनों पार्टियों के दोनों बड़े नेताओं के साझा रैली करने के ऐलान के बाद 1993 के बाद ऐसा पहली बार होगा जब बसपा-सपा के नेता साझा रैली करेंगे। इससे पहले 1993 में कांशीराम और मुलायम सिंह यादव ने साथ में रैलियां की थी। उत्तर प्रदेश में सात चरणों में होने वाले लोकसभा चुनाव में दोनों नेता हर चरण में कम से कम दो-दो साझा रैलियां करेंगे।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com