गोेसाईगंज डकैतीकांड : आरोपित मधुकर ने पुलिस को खूब छकाया 

लखनऊ। राजधानी के ओमेक्स रेजीडेंसी स्थित कोयला कारोबारी के फ्लैट में पुलिसकर्मियों के डाका डालने के मामले में अभी तक पुलिस डकैती के रूपये बरामद नहीं कर सकी है। पुलिस से आरोपित से काफी पूछताछ की,लेकिन रूपयों का कुछ सुराग नहीं लगा।  एएसपी ग्रामीण विक्रांत वीर ने बताया कि आरोपित मधुकर से पूरे मामले के बारे में पूछताछ की गई है, लेकिन उसने  सहयोग नहीं किया और बातों को इधर-उधर घूमाता रहा।
एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि आरोपित मधुकर पांच दिनों की रिमाण्ड पर है। उससे पूछताछ की जा रही है। इसके अलावा पुलिस टीम ने बाराबंकी के बद्दूपुर में मधुकर की रिश्तेदार महिला के घर पर गुरुवार शाम को दबिश देकर घर में तलाशी ली। कई घंटे तक चले सर्च आॅपरेशन के बाद पुलिस टीम के हाथ कुछ हाथ नहीं लगा। एसएसपी ने बताया कि जिस महिला के घर पर छापेमारी की गई है वह सभी आरोपितों की परिचित है। आरोपितों का वहा आना-जाना था। मधुकर से कई बिंदुओं पर पूछताछ की गई है। वह बातों को घुमा फिराकर बता रहा है। फरार आरोपित यशराज और राधाकृष्ण के बारे में भी मधुकर ने कोई ठोस जानकारी नहीं दी है। पूछताछ के लिए अलग-अलग टीमें लगाई गई हैं। अभी चार दिन तक आरोपित पुलिस कस्टडी रिमांड में रहेगा, जिससे रुपये बरामद करने का प्रयास किया जा रहा है। फिलहाल दो दिनों की रिमाण्ड के दौरान उसने अब तक कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी है। गौरतलब हो कि कोयला कारोबारी अंकित अग्रहीर के ओमेक्स सिटी घर पर 9 मार्च गोसाईगंज पुलिस के दो दरागाओं ने साथी अधिवक्ता मधुकर की मुखबिरी पर डकैती डाल गुडवर्क दिखाने का प्रयास करते हुए 3.38 करोड़ रुपये में से 1.85 करोड़ रुपये लूट लिए थे। इनकम टैक्स की टीम को बुलाकर बचे 1.53 करोड़ रुपये उनके हवाले कर दिए। हालांकि जेल की हवा खा रहे  दोनों दारोगा के आवास से 36 लाख रुपये बरामद भी कर लिए गए। बाकी पैसा लेकर मधुकर मिश्रा और साथी फरार हो गया था। मधुकर फिल्मी अन्दाज में कोर्ट में सरेंडर हो गया। जिसे पांच दिनों की रिमाण्ड पर लेकर पुलिस लूट के रूपयों समेत फरार साथियों के बारे में पूछताछ करने में जुटी है।
 गोलमोल देता रहा जवाब  
पुलिस ने आरोपित मधुकर से घटना क्रम के बारे में पूछताछ की है। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने मधुकर से पूछा है कि उसने वारदात को अंजाम देने के लिए कैसे साजिश रची थी। वह निलंबित आरोपित दारोगा पवन और आशीष से कब और कैसे मिला था। यही नहीं, एएसपी क्राइम के गनर प्रदीप को कब बुलाया था? क्या इस घटना में अन्य लोगों की भी संलिप्तता है? पुलिस ने आरोपित से फरार दोनों साथियों की लोकेशन के बारे में भी पूछा है। इसके अलावा मौके से मिली सीसी फुटेज के समेत सभी सवालों को लेकर आरोपित मधुकर पुलिस को छकाता रहा और गोलमोल जवाब देकर बाते कर अपने को निर्दोष कहता रहा।
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com