लखनऊ

ज्यूरिस लॉ कॉलेज पर छात्रों ने कॉलेज के खिलाफ लगाया धोखाधड़ी का आरोप

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के बख्शी का तालाब थाना क्षेत्र स्थित ज्यूरिस लॉ कॉलेज के खिलाफ कई छात्रों ने धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन करके तहसील में जिला प्रशासन के अधिकारियों से शिकायत की। नारेबाजी से वहां माहौल गड़बड़ हो गया। छात्रों ने इस संबंध में कॉलेज प्रशासन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कठोर कार्रवाई किये जाने की मांग की है। थाना प्रभारी बीकेटी ने बताया कि छात्रों की तरफ से तहरीर नहीं मिली है अगर लिखित शिकायत मिलेगी तो कार्रवाई की जाएगी।

कॉलेज प्रशासन पर धोखाधड़ी का आरोप
प्रदर्शन कर रहे सुशील कुमार, सुमन, अनीता, रंजीत, अलोक, अनुराग, दिव्यांशी, रूचि भारती ने बताया ज्यूरिस लॉ कॉलेज बख्शी का तालाब देवरी रुखारा में है। यहां अध्ययनरत सभी LLB तृतीय वर्ष के छात्रों का खाता कैनरा बैंक में खुलवाया गया। सुनील नाम के छात्र का आरोप है कि इस विद्यालय के बाबू के द्वारा उसकी छात्रवृत्ति का पैसा निकाल लिया गया। ये किसी एक छात्र का मामला नहीं है ऐसे ही दर्जनों छात्र हैं जिनके साथ धोखाधड़ी हुई है

छात्रों के खाते से पैसे ट्रांसफर करने का आरोप
छात्रों का आरोप है कि उनका जीरो पर एडमिशन किया गया था लेकिन अब कॉलेज फीस वसूली कर रहा है। आरोप है कि कॉलेज प्रशासन की मिलीभगत से छात्रों का गलत खाता नंबर और मोबाईल नंबर देकर छात्रवृत्ति का पैसा हड़प लिया गया है। इसके अलावा कॉलेज प्रशासन दलित छात्रों का उत्पीड़न कर रहा है। छात्र कई बार हंगामा और प्रदर्शन कर चुके हैं लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। हालांकि इस संबंध में जिम्मेदार लोग बयान देने से बच रहे हैं और वह अपना पल्ला झाड़ रहे हैं।

परीक्षा से वंचित रखने की धमकी दे रहे जिम्मेदार
छात्रों ने आरोप लगाया है कि कॉलेज प्रशासन जबरन फीस वसूली करने का दबाव डाल रहा है। परीक्षा फॉर्म भरने से वंचित किया जा रहा है। छात्रों का दाखिला लेते समय छात्रवृत्ति पर कॉलेज प्रशासन द्वारा पढ़ाने का वादा किया गया था जो कि कॉलेज मैनेजमेंट छात्रों को फीस देने के लिए काफी दिनों से दबाव डाल रहे हैं। कहते हैं कि जब तक पूरी फीस नहीं जमा हो जाएगी परीक्षा से वंचित कर दिया जाएगा। जिन छात्रों की छात्रवृत्ति आई है। छात्रों की बिना सहमति के बैंक खाते से पैसे निकाल लिए गए और खाते भी बंद कर दिए गए। छात्रों के अंक पत्र कॉलेज द्वारा नहीं दिया जा रहा है। छात्रों का भविष्य अंधकार में है। इसलिए उन्होंने न्याय की मांग की है।

loading...
Loading...

Related Articles