Main Sliderराष्ट्रीय

कांग्रेस में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा, कहा-भारी मन के साथ छोड़ी बीजेपी

भारतीय जनता पार्टी के बागी और बिहार के पटना साहिब से सांसद शत्रुघ्न सिन्हा आज औपचारिक रूप से कांग्रेस में शामिल हो गए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मैंने भारी मन से बीजेपी का साथ छोड़ा है। उन्होंने यह भी कहा कि मैं बीजेपी क्यों छोड़ रहा हूं ये सबको पता है .बता दें कि कांग्रेस में शामिल होने और पटना साहिब से उम्मीदवारी के सवाल पर शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा था कि हालात जो भी हों, लेकिन वह पटना साहिब से चुनाव लड़ेंगे। महागठबंधन में सीटों का जो बंटावारा हुआ है उसके तहत पटना साहिब की सीट कांग्रेस के खातें में गई है। ऐसे में ये तय माना जा रहा है कि इस सीट से कांग्रेस उन्हें ही टिकट देगी।

शत्रुघ्न सिन्हा ने आज बीजेपी पर जबरदस्त हमला किया। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ”बीजेपी में वरिष्ठों को मार्गदर्शक मंडल में डाला गया, वहां लोकशाही तानाशाही में बदल गई।” उन्होंने कहा, ”मैंने आज तक जो भी बातें कही हैं वो देशहित में की है,अपने लिए आजतक कुछ नहीं मांगा।” इस दौरान शत्रुघ्न सिन्हा ने शक्ति सिंह गोहिल को बीजेपी का नेता बता दिया। हालांकि बाद में उन्होंने कहा कि आज पहला दिन है गलती हो जाती है।

शत्रुघ्न सिन्हा ने आगे कहा, ”बीजेपी में बड़े नेताओं का अपमान हुआ है। बीजेपी वन मैन शो, टू मैन आर्मी में बन गई है ” उन्होंने कहा, ”मोदी सरकार में मंत्री भी डरे हुए हैं, सारे फैसले पीएमओ से होते हैं।” शत्रुघ्न ने कहा, ”आज स्थापना दिवस पर मुझे बीजेपी छोड़ने का बहुत दुख है, लेकिन अब सुकून भी है कि मुझे पार्टी से निकालने की धमकियां नहीं मिलेंगी।” इस दौरान शत्रुघ्न सिन्हा ने नोटबंदी को दुनिया का सबसे बड़ा घोटाला कहा। उन्होंने कहा, ”जिस व्यक्ति ने रातों रात नोटबंदी लागू कि उसने किसी की फिक्र नहीं की, दुनिया को दिखाने के लिए अपनी मां को भी लाईन में लगवा दिया, नोटबंदी एक ढकोसला थी।

बता दें कि बीजेपी ने इस बार उनहें टिकट न देकर इस सीट से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को उतारा है। अभिनेता से राजनेता बने सिन्हा प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के कामकाज के आलोचक रहे हैं और दोनों पर देश को तानाशाह की तरह चलाने का आरोप लगाया है। वे देश के अलग अलग हिस्सों में रैलियों को संबोधित करते रहे हैं। शत्रुघ्न सिन्हा कहते रहे हैं कि अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में लोकशाही थी, जबकि मोदी सरकार में ‘तानाशाही’ है।

loading...
Loading...

Related Articles