भारत में 70 साल पहले मिला महिलाओं को यह अधिकार

केजीएमयू में मतदाता जागरूकता अभियान रैली का हुआ  शुभारम्भ        

लखनऊ। लोकसभा चुनाव में आम जनमानस को अपने मताधिकार के प्रति जागरूक करने एवं ज्यादा से ज्यादा लोगों को मतदान किए जाने के लिए प्रेरित किए जाने के उद्देश्य से मंगलवार को किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के इंस्टीट्यूट आॅफ पैरामेडिकल सांइसेज के अधिष्ठाता प्रो विनोद जैन के नेतृत्व में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

भारत में 70 साल पहले मिला महिलाओं को यह अधिकार-प्रो भटट् 

इस अवसर पर एक मतदाता जागरूकता अभियान रैली का आयोजन किया गया, जिसकों चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो एमएलबी भटट् द्वारा हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान कुलपति ने मतदाता जागरूकता अभियान की सराहना करते हुए देश में होने वाले चुनाव को लोकतंत्र का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण पर्व बताया। उन्होंने कहा कि कुछ ही पश्चिमी विकसित राष्ट्रों में ही महिलाओं को मताधिकार का अधिकार प्राप्त है, वहीं भारत में आज से 70 वर्ष पूर्व ही महिलाओं को यह बहुत बड़ा अधिकार प्राप्त हो चुका था।

कुलपति ने कहा कि किसी भी विकसित देश की नींव और अधारशिला इसी मतदान के आधार पर है, जिससे एक सामान्य व्यक्ति भी अपने मताधिकार का प्रयोग कर राष्ट्र की सरकार का गठन करने में अपना महत्वपूर्ण और सशक्त योगदान दे सकता है। उन्होंने जाति-धर्म से ऊपर उठकर राष्ट्रहित में सही सशक्त उम्मीदवार को ही मतदान किए जाने की अपील की तथा अन्य लोगों को भी मतदान के लिए प्रेरित एवं जागरूक किए जाने का अनुरोध किया। इसके साथ ही उन्होंने केजीएमयू के शिक्षक, कर्मचारी एंव छात्र-छात्राओं को अपने क्षेत्र में मतदान के दिन अवकाश दिए जाने की घोषणा की।

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से किया लोगों को जागरूक

जागरूकता अभियान के तहत ही इंस्टीट्यूट आॅफ पैरामेडिकल सांइसेज के छात्र-छात्राओं द्वारा न्यू ओपीडी के ग्राउण्ड फ्लोर पर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से आमजन को उनके एक-एक वोट को महत्वपूर्ण बताते हुए उन्हें मतदान के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने नुक्कड़ नाटक के द्वारा वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने से लेकर मतदान न किए जाने के दुष्परिणाम के बारे में भी आमजन को जागरूक किया।

छात्र-छात्राओं ली शपथ

इंस्टीट्यूट आॅफ पैरामेडिकल सांइसेज डाॅ विनोद जैन ने पैरामेडिकल छात्र-छात्राओं, कर्मचारियों एवं शिक्षकों समेत करीब तीन सौ पचास लोगों को भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा रखने की तथा अपने नागरिक कर्तव्यों को पूरा करने की शपथ दिलाते हुए बिना किसी लालच, भय, पक्षपात के मतदान करने और देश के विकास में भागीदार बनने तथा न्यूनतम पांच लोगों को मतदान के लिए प्रेरित करने का संकल्प दिलाया।

यह रहें उपस्थित

इस अवसर पर मुख्य रूप से मुख्य चिकित्सा अधीक्षक प्रो एसएन शंखवार, डाॅ अतिन सिंघई, केजीएमयू कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष विकास सिंह, इंस्टीट्यूट आॅफ पैरामेडिकल सांइसेज के विकास मिश्रा, राघवेन्द्र सिंह समेत समस्त कर्मचारी एवं शिक्षक उपस्थित रहें।

=>