खेती - बारी

जीवाणु खाद मिट्टी के लिए वरदान, कैसे करें खाद का प्रयोग

1. पौधों को नेत्रजन हवा से प्राप्त होता है ।
2. रासायनिक नेत्रजन खाद की बचत होती है ।
3. उपज में 15 से 20 प्रतिशत वृद्धि होती है ।
4. भूमि की उर्वरता में विकास होता है ।
5. दलहनी फसल के बाद अन्य दूसरी फसलों को भी नेत्रजन प्राप्त होता है ।
बीज उपचारित करने की विधि
1. बोने के पहले 100 ग्राम गुड़ आधा लीटर पानी में डाल कर पन्द्रह मिनट तक उबालें।
2. यदि गुड़ न हो तो गोंद या माड़ का भी प्रयोग किया जा सकता है ।
3. अच्छी तरह ठंडा होने पर इस घोल में एक पैकेट राईजोबियम कल्चर कोडाल दें और अच्छी तरह मिला दें ।
4. आधे एकड़ के लिये प्रर्याप्त बीज को पानी से धोकर कल्चर के घोल में डालकर साफ हाथों से अच्छी तरह मिला दें ।
5. इसे अखबार या साफ कपड़े पर छाया में आधा घंटा तक सूखने दें इसके बाद उपचारित बीज की बोआई कर दें ।
6. यदि चूने की परत (पैलेटिंग) करना हो तो कल्चर लगे बीज पर बारीक पिसे हुआ चूने को छिड़क कर मिला दें ताकि हर बीज पर इसकी परत जम जाये ।
सावधानियां

1. कल्चर को धूप से बचायें ।
2. कल्चर जिस फसल का हो उसका प्रयोग उसी फसल के बीज के लिये करें ।
3. कल्चर का प्रयोग पैकेट पर लिखी अवधि तक अवश्य कर लें। इस अवधि तक इसे ठंडे स्थान पर रखें ।
4. उपचारित बीज की बोआई शीध्र कर दें ।
5. कल्चर की क्षमता बढ़ाने के लिये फास्फेट खाद की पूरी मात्रा मिट्ïटी में अवश्य मिलाएं।

इन बातों का रखें ध्यान
1. मिट्ïटी में फास्फेट खाद की उपयुक्त मात्रा (40 से 80 कि. गाम प्रति हेक्टर) डालना चाहिए।
2. यदि मिट्ïटी आम्लिक हो तो उस में चूने का व्यवहार अवश्य करना चाहिये अन्यथा राईजोबियम जीवाणु पनप नहीं पायेगें ।
3. यदि किसी कारण वश अम्लीय मिट्ïटी में चूना न डाला जा सके तो बीज को उपचारित कर उसपर चूने की परत चढ़ानी चाहिये। इस क्रिया को पैलेटिंग कहते हैं । चूने की परत से बीज पर लगे जीवाणुओं की अम्लीय अवस्था में रक्षा होती है ।
4. खेत में जैविक खाद जैसे कम्पोस्ट अथवा सड़े गोबर की खाद देने से राईजोबियम जीवाणुओं की प्रक्रिया में तेजी होती है ।
5.जीवाणु खाद को कारगर ढंग से कार्य करने के लिये खेत में नमी का होना आवश्यक है।

जीवाणु खाद से लाभ जीवाणु खाद के प्रयोग से किसान दो तरह से लाभान्वित होते हैं पहला, रासायनिक खाद जैसे यूरिया या अमोनियम सल्फेट की दो तिहाई मात्रा की बचत करके और दूसरा उपज में (15-25 प्रतिशत) अतिरिक्त वृद्धि करके ।
उदाहरण के तौर पर यदि किसान दलहनी फसल की खेती करता है तो उसके लिये प्रति हेक्टर 50 कि.ग्रा. नेत्रजन की आवश्यकता पड़ेगी जो यूरिया के रूप में डालने पर 110 कि.ग्रा. की जरूरत होगी अगर किसान राईजोबियम कल्चर का प्रयोग करता है तो यूरिया की सिर्फ एक तिहाई मात्रा की आवश्यकता होती है अर्थात 36 कि.ग्रा. या दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि वह 75 कि. ग्राम. यूरिया प्रति हे. की बचत करता है । जिसका मूल्य 200 रूपया होता है । दूसरी तरफ इसके बदले में उसे 25 रूपया/हेक्टर कल्चर पर खर्च करना होगा । अत: उर्वरक के रूप में उसे लगभग 175 रूपया प्रति हेक्टर का शुद्ध लाभ होगा । इसके अतिरिक्त कल्चर के प्रयोग से यदि उसे केवल 2 क्विंटल प्रति हेक्टर की अतिरिक्त उपज मिलती है तो उसे 800 रूपया प्रति क्विंटल की दर से 1600 रूपया बचत होता है । दोनो ओर से मिलाकर किसान को 1775 रूपया प्रति हेक्टर की बचत अवश्य होती है ।

loading...
=>

Related Articles