धर्म - अध्यात्म

हथेली की मदद से जानें आपके जीवन में कितनी शादियां और कैसे रहेगा वैवाहिक जीवन

हस्तरेखाशास्त्र: हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली में कई ऐसी रेखांए होती है जो आपके पूरे जीवन का हाल बता देती हैं।ऐसी ही एक रेखा होती है विवाह रेखा। यह रेखा न केवल आपके वैवाहिक जीवन के बारें में बताती है बल्कि आपके जीवन के प्रेम संबंध आदि के बारें में भी बताती है। आज के समय में कई लोग अपने प्रेम में सफल होते हैं तो कुछ को प्रेम के मामलों में असफलता हाथ लगती है। आज के समय में हर किसी के पास ये इतना समय नहीं होता कि वो ज्‍योतिषी के पास जाकर अपने बारें में जान सकें।इसलिए आज हम आपको इन्ही सब रेखाओं के बारे में बतायेंगे।

हस्तरेखाशास्त्र : हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली में कई ऐसी रेखांए होती है जो आपके पूरे जीवन का हाल बता देती हैं। ऐसी ही एक रेखा होती है विवाह रेखा। यह रेखा न केवल आपके वैवाहिक जीवन के बारें में बताती है बल्कि आपके जीवन के प्रेम संबंध आदि के बारें में भी बताती है। आज के समय में कई लोग अपने प्रेम में सफल होते हैं तो कुछ को प्रेम के मामलों में असफलता हाथ लगती है। आज के समय में हर किसी के पास ये इतना समय नहीं होता कि वो ज्‍योतिषी के पास जाकर अपने बारें में जान सकें।इसलिए आज हम आपको इन्ही सब रेखाओं के बारे में बतायेंगे।

शुभ-अशुभ होगा हथेली में कहां होती है विवाह रेखा हथेली में कनिष्ठिका उंगुली (सबसे छोटी उंगली) के नीचे और ह्रदय रेखा के ऊपर तथा बुध पर्वत पर हथेली के बाहर से आनेवाली रेखा विवाह रेखा कहलाती है। कनिष्ठिका उंगली के नीचे वाले भाग को बुध पर्वत कहा जाता है।यह रेखा एक या एक से अधिक भी हो सकती है। रेखा बहुत ही प्रसिद्ध रेखा है अक्सर देखा जाता है कि कुछ लोग में एक से अधिक रेखा को देखकर कहते है कि आपकी दो शादी होगी या आपके एक से अधिक प्रेम संबंध होंगे।

हथेली में प्रेम की रेखा
अगर आपके हाथ में एक से अधिक विवाह रेखांए हैं तो यह आपके एक से अधिक प्रेम संबंध के बारें में बताता है। यदि आपकी विवाह रेखा हृदय रेखा के नजदीक से जा रही है तो आप बीस साल की उम्र में ही प्रेम के चक्कर में पड़ जाएंगे।और यदि विवाह रेखा छोटी उंगली तथा ह्रदय रेखा के मध्य में हो तो बाइस वर्ष अथवा इसके बाद प्रेम का सम्बन्ध का आगमन समझना चाहिए।

हथेली में कैसी होनी चाहिए विवाह रेखा
हस्तरेखा का एक साधारण सा नियम है कि जो भी रेखा हथेली में बिलकुल स्पष्ट, बारीक, गहराई लिए हुए, तथा सुन्दर हो तो वह अच्छी मानी जाती है। ऐसी रेखा वैवाहिक जीवन में शुभता का संकेत है इसका मतलब आपका वैवाहिक जीवन में कोई भी समस्या नहीं है। यह इस बात की और भी इशारा करता है कि आप और आपके जीवन साथी में काफी प्रेम है। वहीं दूसरी ओर यही रेखा हथेली में यह रेखा स्पष्ट न हो , टूटी हुई हो, द्वीप बना है,जाला हो तो ऐसी रेखा अच्छी नहीं मानी जाती । ऐसी रेखा आपके जीवन में दाम्पत्य सुखों की कमी को दर्शाती है। इससे यह भी पता चलता है कि आप और आपके साथी के बीच प्रेम की कमी है और आप दोनों को एक दूसरें से सामंजस्य बैठाने में काफी दिक्कतें आ रही है।

विवाह रेखा और वैवाहिक जीवन

1.यदि किसी स्त्री के हाथ में विवाह रेखा के प्रारम्भ में कोई द्वीप का चिह्न बन रहा हो तो उस स्त्री कि शादी में धोखा होने की संभावनाएं रहती हैं। इसके साथ ही यह द्वीप इस बात की ओर भी इशारा करती है कि आपके जीवन साथी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है।

2.यदि किसी व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा हृदय रेखा को काटते हुए नीचे की ओर चली जाए तो यह अच्छा नहीं माना जाती । ऐसी रेखा जीवन साथी के जीवन में खतरे को बताती है।

3.यदि किसी जातक की हथेली में विवाह रेखा सूर्य पर्वत की ओर जा रही है या वहां तक पहुंच चुकी है तो यह उस बात का संकेत करता है कि उसका जीवन साथी अवश्य ही समृद्ध और सम्पन्न परिवार से होगा या सरकारी नौकरी में होगा।

4.यदि बुध पर्वत से आने वाली कोई रेखा विवाह रेखा को काट दे तो व्यक्ति का दाम्पत्य जीवन में अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

5.यदि किसी पुरुष के बाएं हाथ में दो विवाह रेखा है और दाएं हाथ में एक विवाह रेखा है तो ऐसे लोगों की पत्नी सर्वगुणसम्पन्न होती है तथा इन लोगों की पत्नी पति का बहुत अधिक ध्यान रखने वाली एवं अधिक प्रेम करने वाली होती है और पतिव्रता होती है।

loading...
Loading...

Related Articles