लखनऊ

प्रेमिका को मारा, घर में दफनाया, अब गिरफ्तार तो खुली पोल

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के निर्देशन में अपराधियों के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत सआदतगंज ने एक सनसनीखेज ब्लाइंड मर्डर केस का खुलासा करते हुए हत्यारोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। अभियुक्त ने अपनी प्रेमिका को नशे की हालत में मौत के घाट उतार दिया था और शव को घर में ही कब्र खोदकर दफना दिया था। इंस्पेक्टर महेश पाल सिंह के नेतृत्व में पुलिस ने सर्विलांस और सीडीआर के आधार पर अभियुक्त को गिरफ्तार किया। पहले तो वह पुलिस को गुमराह करता रहा लेकिन कड़ाई से पूछताछ करने पर वह टूट गया और उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।
इंस्पेक्टर सआदतगंज महेश पाल सिंह ने बताया कि एसएसपी के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक नगर पश्चिमी एवं क्षेत्राधिकारी बाजार खाला के पर्यवेक्षण में अभियुक्तों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान के तहत एक ऐसे अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया है जिसने अपनी प्रेमिका की हत्या करके शव को अपने ही घर में दफना दिया था। प्रभारी निरीक्षक सहादतगंज ने जानकारी देते हुए बताया कि कि 1 नवंबर 2018 को सुमित्रा देवी पत्नी स्वर्गीय नोखे लाल निवासी ग्राम मंडोली पोस्ट काकोरी ने अपनी लड़की राम जानकी (32) की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। जिसकी प्रारंभिक विवेचना उपनिरीक्षक श्रवण चंद्र द्वारा की जा रही थी।
प्रभारी निरीक्षक द्वारा संज्ञान में आते ही सर्विलांस, सीडीआर, कॉल डिटेल के माध्यम से अभियुक्त विजेंद्र कुमार यादव उर्फ मोटू पुत्र तेज नारायण यादव निवासी मेहंदी खेड़ा थाना मानक नगर लखनऊ का नाम प्रकाश में आया और उस को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। अभियुक्त ने पूछताछ के दौरान बताया कि 27 अक्टूबर की रात में सिर पर ईंट मारकर उसने राम जानकी की हत्या कर दी थी। जिसको उसने घर पर ही दफना दिया था। अभियुक्त की निशानदेही पर पुलिस ने एसीएम-3 व स्पेक्टर सहादतगंज की मौजूदगी में जब जमीन खुदवाई तो मृतका का जमीन से 3 फुट नीचे शव बरामद किया गया।
हत्या और पहचान मिटाने की धारा बढ़ाई गई
इस संबंध में इंस्पेक्टर ने पुलिस के उच्चाधिकारियों को अवगत कराया और फील्ड यूनिट को भी अवगत करा कर शव की शिनाख्त के लिए परिजनों को भी बुलाया। जिसकी पहचान मृतका के परिजनों ने अपनी पुत्री रामजानकी के रूप में की है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं पुलिस ने गुमशुदगी की रिपोर्ट में ही हत्या और पहचान छिपाने की धारा बढ़ा दी है।
खुलासा करने में इस पुलिस टीम की रही अहम भूमिका
 इस सनसनीखेज ब्लाइंड मर्डर केस का खुलासा करने में इन्स्पेक्टर महेश पाल सिंह, उप निरीक्षक तौहीद अहमद, प्रदीप सिंह, हेड कांस्टेबल बादाम सिंह, कॉस्टेबल रमेश राम, विजय कुमार, मनोज कुमार और महिला कांस्टेबल अंजलि चौधरी की अहम भूमिका रही।फिलहाल इंस्पेक्टर ने अभियुक्त विजेंद्र को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
पहले से शादीशुदा थी मृतका
पुलिस के अनुसार, मृतिका पहले से शादीशुदा थी। पति के बाद हत्यारोपी से महिला के अवैध संबंध थे। अवैध संबंधों के चलते शराब के नशे में आरोपी ने अपनी प्रेमिका की हत्या कर दी थी। हत्या के बाद शव को घर में दफना दिया था। आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। फिलहाल अभियुक्त को जेल भेज दिया गया है। ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करने पर सआदतगंज पुलिस की ये बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।
 
फ़िल्मी अंदाज में खोदी कब्र में छिपाया शव
इन्स्पेक्टर ने बताया कि 6 महीने पहले मृतका की गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज हुआ था। लंबी छानबीन और कॉल डिटेल्स ट्रैक करने के बाद पुलिस ने हत्या का खुलासा किया। रामजानकी का शव प्रेमी के घर में दफन मिला। उन्होंने बताया कि आरोपी ने फ़िल्मी अंदाज में खोदी गई कब्र में शव को छिपाया था।
loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button