Main Sliderअंतरराष्ट्रीय

शहीदों को श्रद्धांजलि देने, हाइफा पहुंचे पीएम मोदी

नई दिल्ली। इजराइल गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी यात्रा के तीसरे दिन हाइफा पहुंचे। यहां उन्होंने प्रथम विश्वयुद्ध में शहीद हुए सैनिकों को श्रृद्धाजंलि दी। यहां पर विश्व युद्ध में शहीद हुए 44 भारतीय सैनिकों की कब्रें भी बनी हुई हैं।

पीएम मोदी के साथ इस मौके पर इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी मौजूद थे। इससे पहले पीएम मोदी ने बुधवार को साझा घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि ‘मैं कल हायफा जाकर प्रथम विश्व युद्ध में 44 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। यह मेरे दिल के बेहद करीब है।’

इसलिए है खास हाइफा

दरअसल पहले विश्व युद्ध के दौरान 1918 में ब्रिटिश साम्राज्य ने फिलिस्तीन को आटोमान साम्राज्य से मुक्त कराने का निर्णय लिया। इसमें शामिल होने के लिए जोधपूर, मैसूर और हैदराबाद की घुड़सवार रेजिमेंट शामिल थी। इन सैनिकों ने हाइफा को तुर्क-जर्मन सेना से मुक्त कराने में मदद की थी। 23 दिसंबर 1918 को लड़े गए इस युद्ध में 44 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। इजराइल ने इन्ही सैनिकों के सम्मान में यहां मेमोरियल बनाया है।

हाइफा। इजराइल दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी यात्रा के तीसरे दिन हाइफा पहुंचे। यहां उन्होंने प्रथम विश्वयुद्ध में शहीद हुए सैनिकों को श्रृद्धाजंलि दी। यहां पर विश्व युद्ध में शहीद हुए 44 भारतीय सैनिकों की कब्रें भी बनी हुई हैं। पीएम मोदी के साथ इस मौके पर इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी मौजूद थे। इससे पहले पीएम मोदी ने बुधवार को साझा घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि ‘मैं कल हायफा जाकर प्रथम विश्व युद्ध में 44 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। यह मेरे दिल के बेहद करीब है।’ इसलिए है खास हाइफा दरअसल पहले विश्व युद्ध के दौरान 1918 में ब्रिटिश साम्राज्य ने फिलिस्तीन को आटोमान साम्राज्य से मुक्त कराने का निर्णय लिया। इसमें शामिल होने के लिए जोधपूर, मैसूर और हैदराबाद की घुड़सवार रेजिमेंट शामिल थी। इन सैनिकों ने हाइफा को तुर्क-जर्मन सेना से मुक्त कराने में मदद की थी। 23 दिसंबर 1918 को लड़े गए इस युद्ध में 44 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। इजराइल ने इन्ही सैनिकों के सम्मान में यहां मेमोरियल बनाया है।

loading...
Loading...

Related Articles

PHP Code Snippets Powered By : XYZScripts.com