आज हम सब क्या खा रहे हैं सब्जी या जहर

आजकल शहरों में तमाम रसायनों की सहायता से संरक्षित की हुई वे मौसम की जो सब्जियां खाते हैं वे पथरी, अल्सर, डायबिटीज, थायराइड, पाइल्स आदि बीमारियों को जन्म दे सकती है गोभी गर्मी के मौसम की सब्जी नहीं है लेकिन हम और आप गर्मी के मौसम में गोभी की सब्जी खाते हैं तो गैस कब्ज और अन्य बीमारियां तो होंगी ही।

सब्जियों के खेत की सिंचाई प्रदूषित जल से की जाती है जिसमे अनेकों जहरीले पदार्थ पौधों द्वारा अवशोषित होते है जहरीले रसायनों से भरी है सब्जियां हम रोजाना 0.5 मि.ली. ग्राम जहर ले रहे है परवल को रंगा जा रहा है सब्जी के आकार को जल्दी बड़ा करने के लिए उसमे आक्सीटानिक्स का इंजेक्शन लगाया जाता है यह प्रयोग बेल वाली सब्जी पर सबसे ज्यादा किया जाता है इससे सब्जियों की लम्बाई चौड़ाई जल्दी बढ़ जाती है और किसान ज्यादा मुनाफा कमाते हैं बासी सब्जियों को मैलाथियान के घोल में 10 मिनट तक डाला जाता है ताकि सब्जी 24 घंटे तक ताजा रहे इसका प्रयोग भिंडी गोभी मिर्च परवल लौकी पत्ता गोभी पर किया जाता है भारतीय मृदा विज्ञान संस्थान नबीबाग भोपाल में वैज्ञानिक डॉक्टर अजय श्रीवास्तव बाजार की सब्जियां नहीं खाते वे अपने किचन हर्वल गार्डन में उगाई सब्जियां खाते हैं उन्हें बाजार की किसी भी सब्जी पर भरोसा नहीं इनका कहना है खाद्य एवं प्रशासन विभाग को स्वास्थ्य मार्केट में जाकर सब्जी के नमूने लेने चाहिए बाजार में क्या बिक रहा है स्वास्थ्य अधिकारीयों को भी समय-समय पर सब्जियों की जांच करना चाहिए हमे अपनी सुरक्षा स्वयं करनी होगी।

1.ऐसी सब्जियां न खाएं जिन्हे औद्योगिक या नाले के पानी से सींचा गया हो।

2.अत्यधिक खादें कीटनाशक रसायनों का प्रयोग सब्जियों को जहरीला बनाता है लोगों को पेट की बीमारियां होती हैं।

3. तीसरी दुनिया की यह सबसे बड़ी समस्या है जहरीले फल सब्जियां आम आदमी को बेचीं जाती हैं लोग जानते हुए भी इन्हें खरीदते हैं।

4. सब्जियां खरीदते समय उन्हें सूंघ लें पाउडर या केमिकल की खुशबु आ रही हो तो सब्जी में रसायन का प्रयोग हुआ है।

5. हरी सब्जी को हाथ में रगड़ कर देखें अगर रंग छूट रहा है तो समझ लें रंग का प्रयोग हुआ है।

6. सब्जी पकाते समय ज्यादा समय ले तो समझें यह केमिकल के प्रयोग से हो रहा है।

7. सब्जी को अच्छे से धोएं काटते समय चख लें देख लें कहीं कड़वी तो नहीं खुले में रखें यदि हलकी काली पड़ जाए तो समझ लीजिए रसायन का प्रयोग हुआ है।

=>