पुरी में फानी तूफान से सबसे ज्यादा तबाही, आज ओडिशा का दौरा करेंगे पीएम मोदी

भुवनेश्वर। विनाशकारी तूफान फानी के गुजर जाने के 36 घंटे बाद भी ओडिशा के प्रभावित इलाकों मे व्यवस्था पटरी पर नहीं आ सकी है। पुरी व खुर्दा जिले सर्वाधिक प्रभावित हैं। यहां बिजली-पानी व खाद्य सामग्री का संकट अभी भी बना हुआ है। उधर मृतकों की संख्या 39 तक पहुंच जाने की सूचना है। हालांकि मुख्य सचिव ने 29 लोगों के ही मरने की पुष्टि की है। पुरी में ही 21 लोगों की जान चली गई है। तूफान से राज्य के 11 जिले प्रभावित हुए हैं। पुरी व खुर्दा पर सबसे ज्यादा असर पड़ा है। अभी भी बिजली, पानी और खाने के सामान की आपूर्ति सुचारू ढंग से शुरू नहीं हो पाई है। राज्य सरकार ने कहा, हालात को सामान्य बनाने के लिए युद्धस्तर पर कार्य किए जा रहे हैं।

10 हजार गांव व 52 शहरी इलाके प्रभावित
तूफान से 10 हजार गांव व 52 शहरी इलाके प्रभावित हुए हैं और करीब एक करोड़ की आबादी इसकी चपेट में आई है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने उम्मीद जताई है कि बहुत जल्द पुरी व भुवनेश्वर में बिजली-पानी की आपूर्ति सुचारू रूप से होने लगेगी। रविवार को उन्होंने कहा कि प्रभावित इलाकों में अगले 15 दिनों तक सरकार लोगों को भोजन मुहैया कराएगी।

दूसरी ओर राज्य सरकार ने सर्वाधिक प्रभावित पुरी व खुर्दा जिलों के पीडि़त परिवारों को एक महीने का राशन का चावल व एक हजार रुपये के साथ पालिथीन शीट देने की घोषणा की है। इससे कम प्रभावित कटक, केंद्रपाड़ा व जगतसिंहपुर जिलों में हर परिवार को एक महीने का चावल देने के साथ पांच सौ रुपये नकद दिए जाएंगे। सरकार ने जिन लोगों के मकान पूरी तरह ध्वस्त हो चुके हैं, उन्हें प्रति मकान 95 हजार एक सौ रुपये देने की घोषणा की है। आंशिक रूप में गिरे मकानों के एवज में 52 हजार रुपए व मामूली रूप से क्षतिग्रस्त मकानों के एवज में 32 सौ रुपये दिए जाएंगे। फसल एवं पालतू पशुओं के नष्ट होने पर क्षतिपूर्ति देने की घोषणा की गई है।

हवाई सेवा बहाल, स्पेशल ट्रेनें चलाई गई
हवाई सेवा बहाल होने के साथ ही भुवनेश्वर से ट्रेनों का आवागमन भी शुरू हो गया है। इधर, पूर्व तट रेलवे के सूत्रों के अनुसार तूफान के कारण भुवनेश्वर, पुरी व खुर्दा रेलवे स्टेशनों को भारी नुकसान हुआ है जिनकी मरम्मत का कार्य धीरे-धीरे चल रहा है। वहीं, दक्षिण पूर्व रेलवे के सूत्रों के अनुसार हावड़ा से भुवनेश्वर होते हुए तीन स्पेशल ट्रेनों हावड़ा-यशवंतपुर, हावड़ा-वास्कोडिगामा और हावड़ा चेन्नई सेंट्रल का संचालन किया जाएगा। इसके अलावा अन्य ट्रेने पहले की तरह रद रहेंगी। सूत्रों ने बताया कि आठ मई के बाद रेल सेवा सुचारू हो सकेगी।

आज ओडिशा आएंगे प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को ओडिशा के दौरे पर आ रहे हैं। प्रधानमंत्री यहां फानी तूफान से हुई तबाही का जायजा लेने के साथ मुख्यमंत्री, राज्यपाल एवं अधिकारियों के साथ बैठक कर राहत एवं पुनर्वास के अलावा ताजा हालात की जानकारी लेंगे।

=>