पति को फंदे से लटकता देख बेहाल पत्नी ने भी फांसी लगा दी जान

उन्नाव। जिला के सफीपुर कोतवाली क्षेत्र के निहालपुर गांव में रहने वाले दम्पति में शुक्रवार की देर शाम मुंडन संस्कार में जाने के लिए विवाद हो गया था। नाराज पति ने देर रात घर के कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी। शनिवार की सुबह पत्नी ने पति का फंदे से लटकता शव देख बेहाल हो उठी और कुछ देर बाद उसी रस्सी से खुद भी फांसी ली। दम्पति की मौत को लेकर पूरे गांव में सनसनी फैल गई। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

निहालपुर गांव के रहने वाले मुनारी उर्फ बुद्ध कुमार का बत्तीस वर्षीय बेटा कुलदीप ट्रक में मौरंग व बालू आदि की भराई का काम करता था। बारह साल पहले कुलदीप की शादी पूनम से हुई थी। शुक्रवार को कुलदीप के बाबा शिव सागर की बहन के लड़के का मुंडन संस्कार था। कार्यक्रम में जाने को लेकर दम्पति में दो बार विवाद हुआ। जिससे नाराज होकर कुलदीप ने घर के पीछे वाले कमरे में देर रात रस्सी का फंदा बनाकर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

शनिवार की सुबह पत्नी ने पति को फंदे से लटकता शव देखा तो बाबा शिव सागर को खबर की। पति की मौत देख पत्नी बेहाल हो उठी और हंसिया से रस्सी काट खुद भी फांसी लगा ली। कुछ देर बाद घर पहुंचे परिजनों ने पत्नी को भी फंदे से लटकता देखा तो होश उड़ गए। दम्पति की मौत से गांव में सनसनी फैल गई। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच के बाद शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घर में कपड़ों की सिंलाई कर मृतका अपने पति के खर्च में हाथ बंटाती थी। मृतका अपने पीछे दो बच्चों में आठ वर्षीय रिन्कू कक्षा दो में पढ़ता और पांच वर्षीय कन्हैया अभी स्कूल नहीं जाता है।

कुलदीप पहली पत्नी का बेटा था
मृतक कुलदीप के पिता मुनारी ने दो शादियां की थी। कुलदीप पहली पत्नी का बेटा है। शादी के तीन साल बाद पिता से विवाद होने पर वह अपनी पत्नी पूनम को लेकर गांव में अलग रहने लगा था। दम्पति की मौत को लेकर पूरे गांव में सनसनी फैल गई है।

=>