नये पाठ्यक्रम के साथ, पीसीएस मेन्स 2018 का परीक्षा कार्यक्रम जारी

प्रयागराज। लोक सेवा आयोग ने पीसीएस 2018 मुख्य परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया है। पहली बार यह परीक्षा बदले हुए पैटर्न और पाठ्यक्रम के मुताबिक होगी। इस बदलाव की वजह से मुख्य परीक्षा अब सिर्फ चार दिन में ही समाप्त हो जाएगी जबकि पूर्व में परीक्षा में 18 से 20 दिन लग जाते थे।

पिछले वर्ष हुई पीसीएस 2017 की मुख्य परीक्षा 18 जून से शुरू होकर छह जुलाई तक चली थी। पेपर का गलत बंडल खुलने की वजह से निरस्त की गई परीक्षा सात जुलाई को कराई गई थी। आयोग के सचिव जगदीश ने बताया कि मुख्य परीक्षा 17 जून से शुरू होगी और 21 जून तक चलेगी। परीक्षा प्रयागराज और लखनऊ में बने केंद्रों पर कराई जाएगी। पहली पाली की परीक्षा सुबह 9.30 से 12.30 और दूसरी पाली की दिन में 2 से 5 बजे तक होगी। 17 जून को पहली पाली में सामान्य हिन्दी और दूसरी पाली में निबंध का पेपर होगा। 18 जून को पहली पाली में सामान्य अध्ययन (जीएस) प्रथम और दूसरी पाली में जीएस द्वितीय प्रश्न पत्र की परीक्षा होगी। 19 जून को पहली पाली में जीएस तृतीय और दूसरी पाली में जीएस चतुर्थ प्रश्न पत्र की परीक्षा होगी। बीस जून को एक दिन के गैप के बाद 21 जून को पहली पाली में ऐच्छिक विषय के पहले और दूसरी पाली में ऐच्छिक विषय के दूसरे प्रश्न पत्र की परीक्षा कराई जाएगी। सचिव की ओर से जारी सूचना में लिखा गया है कि अपरिहार्य परिस्थिति में परीक्षा कार्यक्रम में बदलाव किया जा सकता है।

पूर्व में पीसीएस मेन्स में जीएस के दो और दो ऐच्छिक विषयों के चार प्रश्न पत्रों की परीक्षा होती थी। लेकिन अब जीएस के प्रश्न पत्रों की संख्या दो से चार कर दी गई है जबकि ऐच्छिक विषय को एक करते हुए इस विषय के दो प्रश्न पत्रों की परीक्षा कराई जाएगी। पूर्व में ऐच्छिक विषयों की परीक्षा अलग-अलग तिथियों पर होती थी इसलिए इसमें ज्यादा वक्त लग जाता था लेकिन अब ऐच्छिक विषय के दोनों प्रश्न पत्रों की परीक्षा भी एक ही दिन हो जाएगी। इसलिए वक्त कम लगेगा।

सिविल सेवा परीक्षा की तरह हुआ पैटर्न
पीसीएस 2018 मुख्य परीक्षा के पैटर्न को अब संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा मुख्य परीक्षा (आईएएस मेन्स) की तरह कर दिया गया है। सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में जिस तरह का पाठ्यक्रम है, उसी पाठ्यक्रम से मिलता-जुलता पाठ्यक्रम पीसीएस मेन्स के लिए तैयार किया गया है। दोनों मुख्य परीक्षाओं का पैटर्न और पाठ्यक्रम एक जैसा होने का प्रतियोगी छात्रों को फायदा होगा। इस वजह से उन्हें दोनों परीक्षाओं के लिए अलग-अलग तैयारी नहीं करनी होगी।

मेंस में वही रोल नंबर जो प्री में था
आयोग की ओर से पीसीएस 2018 मुख्य परीक्षा के अभ्यर्थियों के लिए निर्देश भी जारी किया गया है। इसमें बताया गया है कि मुख्य परीक्षा में परीक्षार्थियों का वही रोल नंबर होगा, जो उन्हें प्रारंभिक परीक्षा में आवंटित किया गया था। यह भी जानकारी दी गई है कि जीएस का प्रत्येक प्रश्न पत्र 200-200 अंकों का होगा। इस प्रकार चार प्रश्न पत्र 800 अंकों के होंगे जबकि ऐच्छिक विषयों का दो पेपर 200-200 यानी कुल 400 अंकों का होगा। सामान्य हिन्दी और निबंध का प्रश्न पत्र 150-150 अंकों का होगा। हालांकि यह जानकारी छह जुलाई 2018 को जारी पीसीएस 2018 के विज्ञापन में भी दी गई थी। निर्देश के जरिए अभ्यर्थियों को पीसीएस 2018 में शामिल विशेष योग्यता वाले पदों की योग्यता की विस्तार से जानकारी भी दी गई है।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com