मुंबई इंडियंस है चैंपियन तो धोनी इस मामले में हैं सबके गुरु

नई दिल्ली। आइपीएल के 12वें सीजन में मुंबई इंडियंस ने चेन्नई को सिर्फ एक रन से हराकर चौथी बार ट्रॉफी पर कब्जा जमाया। मुंबई टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई की घातक गेंदबाजी के आगे 149 रन का छोटा स्कोर ही खड़ा कर पाई। चेन्नई की तरफ से इमरान ताहिर के अलावा दीपक चाहर, ब्रावो, हरभजन और जडेजा ने शानदार गेंदबाजी करते हुए मुंबई को बड़ा स्कोर बनाने से रोका। लेकिन इसके बावजूद चेन्नई को एक रन से हार झेलनी पड़ी। खैर परिणाम जो भी निकला हो CSK के स्पिनर ताहिर पूरे टूर्नामेंट के लिए स्टार गेंदबाज साबित हुए।

फाइनल मुकाबले में इमरान ताहिर ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 3 ओवर में 23 रन देकर दो विकेट भी चटकाए। इसके साथ ही ताहिर टूर्नामेंट में कागिसो रबाडा को पीछे छोड़ते हुए सबसे सफल गेंदबाज बन गए। कागिसो रबाडा ने 12 मैचों में 25 विकेट चटकाए तो वहीं ताहिर ने 17 मैचों में 26 विकेट हासिल कर पर्पल कैप पर कब्जा जमाया।

ताहिर ने रचा इतिहास
साथ ही इमरान ताहिर आइपीएल इतिहास के एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिनर भी बन गए हैं। इससे पहले ये रिकॉर्ड सुनील नरेन के नाम था जिन्होंने 2012 के सीजन में 24 विकेट झटके थे।

CSK के नाम नया रिकॉर्ड
इस सीजन में ताहिर ने चेन्नई के लिए 17 मैचों में 26 विकेट हासिल कर पर्पल कैप अपने नाम की। ताहिर चेन्नई की तरफ से पर्पल कैप जीतने वाले चौथे खिलाड़ी हैं। उनसे पहले ड्वेन ब्रावो ने दो 2 बार और मोहित शर्मा (एक बार) चेन्नई के लिए खेलते हुए पर्पल कैप जीत चुके हैं। यानि CSK ने आइपीएल में कुल चार बार पर्पल कैप अपने नाम की है। चेन्नई के अलावा कोई भी टीम चार बार पर्पल कैप नहीं जीती है।

ब्रावो ने साल 2013 के सीजन में अपनी घातक गेंदबाजी से सभी को हैरान कर दिया था। ब्रावो ने पूरे सीजन में 18 मैचों में रिकॉर्ड 32 विकेट चटकाए थे। उसके बाद एक बार फिर साल 2015 में वापसी करते हुए ब्रावो ने 26 विकेट हासिल कर एक बार फिर पर्पल कैप पर कब्जा जमाया था। वहीं मोहित शर्मा 2014 के सीजन में 23 विकेट झटक कर टूर्नामेंट के सबसे सफल गेंदबाज रहे थे। इसका मतलब आइपीएल की पर्पल कैप पर लगातार तीन साल तक चेन्नई सुपर किंग्स का ही कब्जा रहा।

इन टीमों के नाम रही पर्पल कैप
एक टीम के रूप में बात करें तो चेन्नई सुपर किंग्स ने अब तक चार बार पर्पल कैप जीती है। वहीं सनराइजर्स हैदराबाद और डेक्कन चार्जर्स ने दो-दो बार, राजस्थान, मुंबई, दिल्ली और पंजाब ने एक-एक बार पर्पल कैप अपने नाम की है। वहीं रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर एक भी बार पर्पल कैप हासिल नहीं कर पाई है।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com