बागपत

मासूम की मौत पर डीएम सख्त, जमीन से निकलवाया शव

बागपत। यूपी के बागपत शहर में एक मासूम की मौत का राज गहराता जा रहा है। मृतक के पिता ने हत्या की आशंका जताते हुए मंगलवार को थाने में तहरीर दी। वहीं डीएम के आदेश पर पुलिस ने जमीन से खोदकर मासूम के शव को बाहर निकलवाया। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्ट के लिए भेज दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

एसपी शैलेश कुमार पांडेय ने कहा कि मासम के शव को निकलवाया गया है और मामले की जांच की जा रही है। जांच पूरी होने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। कोतवाली क्षेत्र के सरूरपुर कलां गांव में सोमवार को कक्षा दो का छात्र संदिग्ध हालात में चुनरी के फंदे पर लटका मिला था। परिजन उसे फंदे से उतारकर डॉक्टर के यहां ले गए थे। वहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। संभावना जताई जा रही थी कि दरवाजे पर बांधी गई चुनरी खेल-खेल में मासूम के गले में लिपट गई। इससे उसकी मौत हो गई। इस हादसे के बाद गांव में गम का माहौल है।

सरूरपुर निवासी अनुसूचित जाति का ईश्वर सिंह गांव में ही इलेक्ट्रानिक की दुकान चलाता है। उसकी पत्नी सुनीता गांव के एक स्कूल में सफाई कर्मचारी है। सोमवार को दोपहर के समय दिव्यांश (08) पुत्र ईश्वर मकान की पहली मंजिल पर खेल रहा था। उसकी बहन आरती ने करीब दो बजे ऊपर जाकर देखा तो कमरे के दरवाजे में बंधी चुनरी में दिव्यांश के गले में लिपटी हुई थी और दिव्यांश लटका हुआ था।

आरती ने परिजनों को सूचना दी थी। इसके बाद परिवार के लोग दिव्यांश को लेकर बड़ौत स्थित नर्सिंग होम पहुंचे थे, जहां बच्चे को मृत घोषित कर दिया गया था। मासूम की मौत से गांव में गम का माहौल बन गया। परिजनों ने गणमान्य लोगों की मौजूदगी में शव को दफना दिया था। कोतवाली प्रभारी शिव प्रकाश सिंह पुलिस के साथ देर शाम गांव पहुंचे, लेकिन ग्रामीणों और परिजनों ने किसी भी कार्रवाई से इंकार कर दिया था।

सवाल छोड़ गई मासूम की मौत
मकान की पहली मंजिल पर बने कमरे के दरवाजे में चुनरी बंधी हुई मिली थी। आशंका है कि दिव्यांश इस चुनरी पर लटककर चारों और घूम रहा होगा। घूमते हुए चुनरी उसके गले में फंदा बन गई, जिस कारण उसकी मौत हुई है। सवाल है कि चुनरी दरवाजे में किसने और कब बांधी। वारदात के बाद गांव में तरह की चर्चाएं फैल गई। जिस वक्त यह घटना हुई, मासूम घर में अकेला था। स्कूल से आने के बाद उसकी बहन भी घर के पिछले दरवाजे से घर में पहुंची थी। अगर घर का दरवाजा बंद था तो दिव्यांश घर में कैसे पहुंचा। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है।

loading...
Loading...

Related Articles