पुरुषों कंडोम इस्तेमाल न करने के बताते हैं कुछ इस तरह अजीब बहाने

किसी भी रिलेशनशिप को बेहतर बनाएं रखने के लिए सेक्स लाइफ का अच्छा होना भी जरूरी होता है। और बेहद जरूरी होता है कि यौन सम्‍बंध सुरक्षित हों। इसमें कंडोम बेहद अहम भूमिका अदा करता है। हालांकि, एशिया या कहिये पूरे विश्व में ही यौन सम्‍बंध सुरक्षित बनाने या गर्भ न धारण करने की स्थिति में अक्‍सर महिलाओं को ही पहल करनी पड़ती है। देखा गया है कि पुरुषों को शारीरिक सम्‍बंध बनाने के दौरान किसी भी प्रकार के बंधन नहीं भाते और शायद यही कारण है कि वे कंडोम के इस्तेमाल को लेकर भी बहाने बाज़ी करते दिखाई देते हैं। तो चलिये जाने कि कंडोम न इस्तेमाल करने के लिये पुरुष किस प्रकार के अजिब बहाने बनाते हैं। –

ये प्‍लास्टिक जैसा है

कई पुरुष अपनी साथी को ये कहकर कंडोम न पहनने का बहाना करते हैं कि कंडोम पहनने से उन्‍हे प्‍लास्टिक जैसा महसूस होता है और इसके उपयोग से उनके संसर्ग का आनंद आधा हो जाता है।

अब तो तुम्‍हारा पीरियड सेफ है

अगर साथी को पीरियड नहीं हो रहे होते हैं तो पुरुष कई बार इस समय को सेफ पीरियड बताकर कंडोम नहीं लगाने का बहाना करते हैं और बोलते है कि इस दौरान संसर्ग करें तो कुछ परेशानी नहीं होती है। जबकि ये बात सरासर गलत होती है।

कंडोम भी तो फट जाते हैं

“कंडोम भी तो फट जाते हैं, तो फिर इसको लगाने का क्या फायदा”। वे साथी जो बच्‍चा न होने के लिए कंडोम का उपयोग करते हैं, उनके पुरूष साथी अक्‍सर कंडोम न पहनने का ये बहाना सामने रखते हैं कि कंडोम भी सुरक्षित नहीं होते, वे अक्सर फट जाते हैं। इसलिये बेहतर होगा कि तुम ही बाद में गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कर लो।

तुम गर्भनिरोधक दवाईयां ले लेना

कई बार पुरुषों अपने प्रधान होने की सोच के चलते अपनी पार्टनर को सलाह देते है कि यौन सम्‍बंध केवल आनंद लेने के लिए बनाये जाते हैं, इसलिये कंडोम का प्रयोग किये बिना सुख उठाओ और गर्भधारण से बचने के लिए बाद में गोलियां ले लो। तुम्हारे गर्भनिरोधक गोलियां लेने से रिलेशन के चार्म पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा।

हमें मजा नहीं आ पाएगा

कई शोध भी बताते हैं और अक्‍सर पुरूषों को फोरप्‍ले के बाद ये बात सामने रखते देखा गया है कि अगर वे कंडोम पहन लेंगे तो वे उनके साथी को संतुष्ट नहीं कर पाएंगे, जिसके चलते उनकी महिला साथी अक्सर राज़ी भी हो जाती हैं।

मैं कंट्रोल कर लूंगा

कई पुरूष मानते हैं कि वे खुद पर कंट्रोल कर सकते हैं और चरम प्राप्ती के समय बाहर इजेकुलेट कर सकते हैं। जिससे वे अपनी साथी को बिना कंडोम का इस्तेमाल करे ही प्रेग्‍नेंट होने से बचा सकते हैं। लेकिन वास्तव में लगभग 80 प्रतिशत मामलों में ऐसा करने में असफल रहते हैं।

ये प्यार में दूरियां पैदा करता है

“मैं तुमसे बेइंतहां मुहब्बत करता हूं, हमें किसी सहारे की जरूरत नहीं।” लेकिन जनाब प्‍यार और सुरक्षित सेक्‍स, ये दो अगल-अलग  बातें हैं। लेकिन अकसर पुरुषों के लिए बिस्‍तर पर प्‍यार और सेक्‍स साथ में आ जाते हैं। वे मानते है कंडोम लगाने से दूरी जैसी बनी रहती है, और एक-दूसरे का पूरा एहसास नहीं हो पाता।

ये मंहगे होते हैं

मुम्किन है कि हर दिन लवमेकिंग करने वाले कुछ लोगों के सामने कंडोम के दाम एक समस्‍या हों। जिसके चलते पुरुष अपनी साथी को इसकी मंहगी कीमतों का हवाला देकर इसे न इस्तेमाल करनी की पहेरवी करते हैं। मगर जनाब कुछ स्वयं सेवी संस्थाएं और सरकार इन्हें मुफ्त में भी मोहय्या करती है।

=>