Main Sliderअमेठीउत्तर प्रदेशप्रतापगढ़प्रयागराजरायबरेलीलखनऊ

रायबरेली कांड के पीछे बीजेपी सरकार का वरदहस्त: राजबब्बर

दुर्घटना में घायल हुई पार्टी की महिला विधायक मामले पर गरजे कांग्रेसी

राज्यपाल से की भेंट, उनके देखरेख में मामले की जांच करने की अपील

बीजेपी ने जो चाहा वही हुआ, विरोधी गुट के एक व्यक्ति की हत्या पर साधे चुप्पी

लखनऊ। बीजेपी को जब यह लगने लगा कि वो राजनीतिक लड़ाई हार रही है तो हिंसा पर उतारू हो गई। क्षेत्र में किसी चुने हुए जनप्रतिनिधि पर इस प्रकार से हमला होना अशोभनीय है और यह लोकतंत्र पर सीधा प्रहार है। अंतत: बीजेपी जो चाहती थी, वही हुआ अब आगे एक साल के लिए रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष की चुनावी प्रक्रिया नहीं हो सकेगी। 52 में से 31 जिला पंचायत सदस्य बकायदा अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग करने जा रहे थे। मगर प्रकरण के पीछे बीजेपी सरकार का वरदहस्त होने की वजह से वहां के क्षेत्रीय दबंग लोगों ने शासन की शह पर प्रशासन की मदद से सारे वाकये को अंजाम दिया। ये बातें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने राजधानी में कही। रायबरेली में उनकी पार्टी की विधायक अदिति सिंह के साथ हुई दुर्घटना के सवाल पर बुधवार को कांग्रेस मुख्यालय पर राजबब्बर ने कहा कि वहां के डीएम को कई बार जिपं सदस्य यह संज्ञान में लाये कि अध्यक्ष पद के स्तर पर तमाम प्रकार से भ्रष्टाचार किया जा रहा है, मगर कोई सुनवाई नहीं हुई।

अंत में जब कोर्ट ने इस प्रकरण का संज्ञान लिया और आदेशित किया कि अविश्वास प्र्रस्ताव पर 14 मई को वोटिंग करायी जाये, तब बीजेपी बौखला गई। राजबब्बर ने कहा कि इतिहास में 23 मई वही दिन है जिस दिन जर्मनी के तानाशाह हिटलर का अंतिम दिन था, ऐसे में जो चुनावी नतीजे आयेंगे उससे बीजेपी का भी कुछ ऐसा ही हश्र होने वाला है। सुल्तानपुर से चुनाव लड़ रहे वरिष्ठ कांग्रेसी नेता डॉ. संजय सिंह ने कहा कि रायबरेली में जो भी घटना हुई वो शर्मनाक है और आसपास के जिलों के जो भी कांग्रसी हैं वो संघर्ष करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। हालांकि पूरे आरोप-प्रत्यारोप के बीच कांग्रेसी नेताओं ने अपने पार्टी की एमएलए के साथ हुई दुर्घटना को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया, मगर इसी संघर्ष में विरोधी खेमे की एक व्यक्ति की हुई हत्या पर चुप्पी साध गए। इस दौरान अखिल भारतीय महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता और हाजी सिराज मेहंदी सहित अन्य पार्टीजन मौजूद रहें।

टोल पर हुमले की सीसी फुटेज निकाली जाये: अदिति

लखनऊ। पहले टोल पर और उसके बाद फिर बीच चौराहे पर मुझपे और मेरे साथ गाड़ी में बैठे जिपं सदस्यों पर हुआ। उन्हें टोल पर ही गाड़ी से उतारा गया और उनके साथ मारपीट की गई। ये आरोप बुधवार को रायबरेली की कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने पार्टी मुख्यालय पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की मौजूदगी में बीजेपी शासन-प्रशासन पर लगाया। अदिति ने सवाल उठाते हुए कहा कि जब टोल पर हमला हुआ तो उसकी सीसी फुटेज तो होगी ही, उसे प्रस्तुत किया जाना चाहिए जिससे पूरी घटना की वास्तविकता सामने आ जायेगी।

साथ ही उन्होंने कहा कि पहले ही जिले के डीएम व एसपी को हमारे साथियों ने ज्ञापन दे रखा कि जिपं वोटिंग के मद्देनजर उन्हें सुरक्षा मुहैया करायी जाये, मगर किसी ने नहीं सुना। कांग्रेसी विधायक ने डीएम व एसपी के तत्काल ट्रांसफर की मांग की है। वहीं जब उनसे यह सवाल किया गया कि रायबरेली में दिनदहाड़े जो भी हुआ, उसके पीछे चुनावी माहौल नहीं बल्कि दो परिवारों की राजनीतिक अदावत है तो इसका जवाब राजबब्बर ने दिया कि अभी यह समय इस प्रकार के सवाल का नहीं है।

loading...
Loading...

Related Articles

PHP Code Snippets Powered By : XYZScripts.com