48 घंटे बाद भी टेंट कारोबारी के हत्यारे गिरफ्त से दूर  

  •  दर्जनभर संदिग्धों से पूछताछ,जल्द खुलासा का दावा

    लखनऊ। ठाकुरगंज पुलिस दो दिन बाद भी टेंट व्यवसायी छोटू लोधी के हत्यारों का सुराग नहीं लगा पायी है। पुलिस शक के आधार पर कई संदिग्धों से पूछताछ कर रही है,लेकिन अभी पुख्ता सुराग हाथ नहीं लगा। हत्यारों की गिरफ्तारी ना होने से क्षेत्र में तनाव है। सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस फोर्स लगाया गया है। एएसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि छोटू की पत्नी रेनू की तहरीर पर दो अज्ञात बाइक सवार नकाबपोश बदमाशों के खिलाफ  हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। शहर के अलावा पड़ोसी जनपदों में बदमाशों की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है। कई संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। बहुचचिज़्त श्रवण साहू हत्याकांड के आरोपित अकील के साथ छोटू 2013 में जेल गया था। दोनों के खिलाफ ठाकुरगंज में मारपीट जानलेवा हमले समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज हुई थी। पुलिस सभी बिन्दुओं पर जांच-पड़ताल करते हुए हत्यारों की तलाश में जुटी है।
    गौरतलब हो कि ठाकुरगंज थाना क्षेत्र के कैम्पवेल रोड चोर घाटी तिराहे पर कन्हई खेड़ा निवासी छोटू लोधी (34) का चोर घाटी तिराहे पर टेंट का व्यवसाय था। वह प्रापटीज़् डीलिंग का भी काम करता था। बीते शनिवार रात वह नौकर राजू पाल साथी दिनेश और दो अन्य लोगों के साथ तिराहे पर स्थित शराब के ठेके के पास खड़ा बात कर रहा था। इस बीच कन्हई खेड़ा रोड की ओर से आए बाइक सवार नकाबपोश बदमाशों ने पीछे से उसके सिर में गोली मार दी। इसके बाद बदमाश हवाई फायरिंग करते हुए भाग निकले। आस-पड़ोस के लोगों की मदद से घायलावस्था में उसे ट्रामा सेंटर ले जाया गया। जहां, डॉक्टरों ने छोटू को मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि छोटू का प्रापट्री  का कारोबार भी करता था। वहीं श्रावण साहू हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी अकील के साथ भी रहा है और बाद में दोनों के बीच संबंध खराब हो गये। इसके बाद छोटू ने करीब तीन पहले टेंट कारोबार की शुरूआत की है। फिलहाल पुलिस  सभी बिन्दुओं पर तफ्तीश कर रही है।

=>