धर्म - अध्यात्म

हनुमान जी के इस रूप का विशेष महत्व, इस तरह करें इनके इस रूप की पूजा होगी हर मनोकामना पूर्ण

हनुमान जी की भक्ति सभी करते हैं और चाहते हैं कि उनकी कृपा हमेशा बनी रहे। सभी के घरों में हनुमान जी की तस्वीर मिल ही जाती है। लेकिन क्या आप जानते है कि हनुमान जी के 11 रूप थे और 11 मुखी हनुमान जी की पूजा करने से जीवन की सभी समस्याओं का निवारण होता है। हनुमान जी के हर रूप का अपना विशेष महत्व होता हैं। इसलिए आज हम आपके लिए इससे जुड़ी जानकारी लेकर आए हैं कि अपनी मनोकामना के लिए आप कौनसे हनुमान जी की पूजा करें। तो आइये जानते हैं इससे जुड़ी नहात्व्पूर्ण जानकारी के बारे में।

ऊर्ध्वमुख

इस ओर मुख किए हनुमान जी को ऊर्ध्वमुख रूप यानी घोड़े का रूप माना गया है। इस स्वरूप की पूजाकरने वालों को दुश्मनों और संकटों से मुक्ति मिलती है। इस स्वरूप को भगवान ने ब्रह्माजी के कहने पर धारण कर हयग्रीवदैत्य का संहार किया था।

पंचमुखी हनुमान

पंचमुखी हनुमान के पांच रूपों की पूजा की जाती है। इसमें हर मुख अलग-अलग शक्तियों का परिचायक है। रावण ने जब छल से राम लक्ष्मण बंधक बना लिया था तो हनुमान जी ने पंचमुखी हनुमान का रूप धारण कर अहिरावण से उन्हें मुक्त कराया था। पांच दीये एक साथ बुझाने पर ही श्रीराम-लक्षमण मुक्त हो सकते थे इसलिए भगवान ने पंचमुखी रूप धारण किया था। उत्तर दिशा में वराह मुख, दक्षिण दिशा में नरसिंह मुख, पश्चिम में गरुड़ मुख, आकाश की तरफ हयग्रीव मुख एवं पूर्व दिशा में हनुमान मुख में वह विराजे हैं।

एकादशी हनुमान

ये रूप भगवान शिव का स्वरूप भी माना जाता है। एकादशी रूप रुद्र यानी शिव का 11वां अवतार है। ग्यारह मुख वाले कालकारमुख के राक्षस का वध करने के लिए भगवान ने एकादश मुख का रुप धारण किया था। चैत्र पूर्णिमा यानी हनमान जयंती के दिन उस राक्षस का वध किया था। यही कारण है कि भक्तों को एकादशी और पंचमुखी हनुमान जी पूजा सारे ही भगवानों की उपासना समना माना जाता है।

astrology tips,astrology tips in hindi,lord hanuman,eleven mukhi hanuman ji ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, हनुमान जी, 11 मुखी हनुमान जी, हनुमान जी के रूप

वीर हनुमान

हनुमान जी के इस स्वरूप की पूजा भक्त साहस और आत्मविश्वास पाने के लिए करते हें। इस रूप के जरिये भगवान के बल, साहस, पराक्रम को जाना जाता है। अर्थात तो भगवान श्रीराम के काज को संवार सकता है वह अपने भक्तों के काज और कष्ट क्षण में दूर कर देते हैं।

भक्त हनुमान

भगवान का यह स्वरूप में श्रीरामभक्त का है। इनकी पूजा करने से आपको भगवान श्रीराम का भी आर्शीवद मिलता है। बजरंगबली की पूजा अड़चनों को दूर करने वाली होती है। इस पूजा से भक्तों में एग्राता और भक्ति की भावना जागृत होती है।

दास हनुमान

बजरंबली का यह स्वरूप श्रीराम के प्रति उनकी अनन्य भक्ति को दिखाता है। इस स्वरूप की पूजाकरने वाले भक्तों को धर्म कार्य और रिश्ते-नाते निभाने में निपुणता हासिल होती है। सेवा और समर्णण का भाव भक्त इस स्वरूप के जरिये ही पाते हैं।

सूर्यमुखी हनुमान

यह स्वरूप भगवान सूर्य का माना गया है। सूर्य देव बजरंगबली के गुरु माने गए हैं। इस स्वरूप की पूजा से ज्ञान, प्रतिष्ठा, प्रसिद्धि और उन्नति का रास्ता खोलता है। क्योंकि श्रीहनुमान के गुरु सूर्य देव अपनी इन्हीं शक्तियों के लिए जाने जाते हैं।

loading...
=>

Related Articles